Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/xfkk8071uo3p/public_html/wp-content/themes/covernews/lib/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

गणतंत्र दिवसः राजपथ पर उतरा पूरा भारत, दिखी देश की ताकत

  • ब्राजील के राष्ट्रपति चीफ गेस्ट
  • कैप्टन तान्या शेरगिल ने सेना टुकड़ी का नेतृत्व 
  • सेना के शौर्य ने सबको चौंकाया
  • जगुआर और डोर्नियर से कांपा आसमान
  • झांकियों सबका मन मोह लिया

नई दिल्ली। 

आज पूरा देश 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राजपथ पर तिरंगा फहराकर राष्ट्रध्वज को सलामी दी। इसके बाद राजपथ पर भारत की शौर्य शक्ति का प्रदर्शन किया गया। भारतीय सेना ने राष्ट्रपति को सलामी दी। इसके साथ ही राजपथ पर 16 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेश व मंत्रालयों की झाकियों से राजपथ पर एेसा लगा मानों पूरा हिन्दुस्तान उतर आया हो। खासकर छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान झाकियों ने अपनी सांस्कृतिक पहचान से लोगों का मन मोह लिया। यूपी की झांकी में बाराबंकी की झलक देखने को मिली।

आसमान को निहारती रहीं आंखें

परेड के दौरान रुद्र और ध्रुव (Advanced Light Helicopters) को देखने के लिए सभी की निगाहें आसमान की आेर निहारती रहीं। आसमान में 155 हेलिकॉप्टर यूनिट के 5 हेलिकॉप्टरों ने उल्टे Y आकार में भरी उड़ान। राजपथ पर परेड के दौरान भारतीय सेना के युद्धक टैंक T-90 भीष्म ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सलामी दी। भीष्म टैंक की कमान 86 आर्मर्ड रेजिमेंट के कैप्टन सनी चाहर के हाथों में रही। टी-90 टैंक के अलावा के-9 वज्र-टी टैंक की भी नुमाइश की गई है। 269 मीडियम रेजीमेंट के कैप्टन अभिनव साहू इस टैंक को कमांड किया।

71वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर डायमंड फॉर्म में फ्लाई-पास्ट का प्रदर्शन किया। इससे पहले 21 तोपों ने राष्ट्रपति को सलामी भी दी। इतना ही नहीं राजपथ पर भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट की टुकड़ी ने सबका मन मोह लिया है। नेवी ने बोइंग पी8I लॉन्ग रेंज मेरीटाइम पट्रोल एयरक्राफ्ट और कोलकाता क्लास डिस्ट्रायर ने अदभुद नजारा पेश किया।

900 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से उड़ा सुखोई

परेड में एक अकेला सुखोई विमान 900 की स्पीड से उड़ा।

सुखोई-30 ने बनाया त्रिशूल

परेड में तीन सिखोई विमानों ने मिलकर त्रिशूल की आकृति बनाई।

जगुआर और डोर्नियर से कांपा आसमान

नौसेना के डोर्नियर विमानों ने आकाश में शौर्य का प्रदर्शन किया। दो डोर्नियर विमानों को स्क्वाड्रन लीडर विकास कुमार और स्क्वाड्रन लीडर अभिषेक वशिष्ठ ने उड़ाया। वायुसेना के पांच जगुआर विमानों ने 780 किमी प्रति घंटे की गति से राजपथ पर उड़ान भरी। इस समूह का नेतृत्व ग्रुप कैप्टन पारिजात सौरभ ने किया।

अपाचे ने राजपथ पर भरी पहली बार उड़ान

राजपथ पर वायुसेना के लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे ने पहली बार उड़ान भरी। इन पांच हेलीकॉप्टरों के समूह का नेतृत्व विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त 125 हेलीकॉप्टर स्क्वाड्रन के कमांडिंग ऑफिसर मन्नारथ शीलू ने किया।

परेड में राफेल, तेजस की झांकी

परेड में राफेल, तेजस के साथ-साथ आकाश मिसाइल सिस्टम की झांकी को शामिल किया। 

ऐंटी सेटलाइट मिसाइल सिस्टम

ऐंटी सेटलाइट मिसाइल सिस्टम ‘मिशन शक्ति’ को दिखाया गया। 

खास रेडार सिस्टम

ADTCR सिस्टम का प्रदर्शन। 

हिमाचल प्रदेश की झांकी ने दिया बुद्ध का संदेश

मध्यप्रदेश की झांकी में आदिवासी संस्कृति के दीदार हुए तो हिमाचल प्रदेश की झांकी में कुल्लू दशहरा उत्सव और गौतम बुद्ध का संदेश दिखाया गया। गुजरात की संस्कृति की झलक रानी की बाव में दिखाई दी। वहीं राजपथ पर मेघालय राज्य की खूबसूरती, छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विरासत, गोवा की झांकी में वहां के जनजीवन आैर जल शक्ति मंत्रालय की झांकी जल है तो कल है ने सबका मन मोह लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *