सुविचार –

तारीफ की चाहत तो...
नाकामों की फ़ितरत होती है...

काबिल के तो ....
दुश्मन भी क़ायल होते हैं...
मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,
पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ.. 
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x