एसोचैम के 100 साल / मोदी ने कहा- अर्थव्यवस्था में उतार-चढ़ाव पहले भी आए, लेकिन हम उबरे; इस बार हम और बेहतर होकर सामने आएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री इन इंडिया (ASSOCHAM) के 100 वर्ष के उद्धाटन सत्र में कहा कि सरकार ने इकोनॉमी में स्थिरता लाने का काम किया है। उन्‍होंने कहा कि 5-6 साल पहले अर्थव्‍यवस्‍था गिरावट की दिशा में जा रही थी, हमारी सरकार ने न केवल इसे स्थिर किया, बल्कि इसे अनुशासित करने का प्रयास भी किया। हमने उद्योग जगत के दशकों पुराने मांगों की तरफ ध्‍यान दिया है। 

पीएम मोदी ने कहा कि 5 ट्रिलियन इकोनॉमी का लक्ष्‍य प्राप्‍त किया जा सकता है और भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को विकसित करने के लिए चौतरफा कदम उठाए जा रहे हैं। आज हम ये कह सकते हैं कि देश की बैंकिंग प्रणाली की नींव अब इतनी पारदर्शी हो रही है कि 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को ऊर्जा दे सकते हैं। पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘बैंकिंग सेक्टर और कॉरपोरेट सेक्टर से जुड़े लोगों को आज मैं आश्वासित करना चाहता हूं कि हमने शुरुआती कमजोरियों को कंट्रोल करने में एक सीमा तक सफलता प्राप्त की है। इसलिए अब बिना किसी हिचकिचाहट के निर्णय लें और निवेश करें।

पीएम मोदी ने कहा, ”पिछले कुछ सालों से भारत में एफडीआई का इनफ्लो बढ़ा है। एफडीआई के दो अर्थ निकलते हैं। पहला जो सब जानते हैं- विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (Foreign Direct Investment) और दूसरा मैं कहता हूं फर्स्ट डेवलप इंडिया।”

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने चौतरफा फैसला लिए हैं। ताकि पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के लिए मजबूत आधार बने। उन्होंने कहा कि 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था की बात अचानक नहीं आई है। बीते 5 साल में देश ने खुद को इतना मजबूत किया है कि ऐसे लक्ष्य ऱखे भी जा सकते हैं और उन्हें प्राप्त भी किया जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि जब तक पूरे देश लक्ष्य तय नहीं करता, लक्ष्य को पार करने के लिए अपनी जिम्मेवारियों में सक्रियता नहीं लाता है तब तक ये मुमकिन नहीं है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- एसोचैम ने आज एक अहम पड़ाव पार किया है। 100 वर्ष का अनुभव बहुत बड़ी पूंजी होता है। मैं एसोचैम के सभी सदस्यों को इस महत्वपूर्ण पड़ाव पर बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x