सीबीएसई ने पाठ्यक्रम से जेहादी मुगल, इस्लामी साम्राज्य, नेहरू गु. आ.,फैज़ की उर्दू नज़्में हटायीं

नई दिल्लीः माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 2022-23 के शैक्षिक सत्र में कई बड़े बदलाव किए हैं. इन बदलावों के तहत सीबीएसई की कक्षा 11 और 12 की इतिहास और राजनीति विज्ञान की किताब से कई अध्याय हटा दिए गए हैं, इनमें नेहरू का गुटनिरपेक्ष आंदोलन, शीत युद्ध का दौर, मुगल दरबारों का इतिहास और औद्योगिक क्रांति जैसे अध्याय शामिल हैं. सीबीएसई अधिकारियों का कहना है कि पाठ्यक्रम को तर्कसंगत बनाने और राष्ट्रीय शैक्षिक और प्रशिक्षण परिषद की सिफारिशों के अनुरूप बदलाव किए गए हैं.

https://www.google.com/amp/s/zeenews.india.com/hindi/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/mp/cbse-remove-mughal-history-nehru-non-allaince-islamic-movement-from-syllabus-ncert-ngmp/1162947/amp

फैज अहमद फैज की नज्में भी हटेंगी
सीबीएसई की 10वीं की कक्षा के पाठ्यक्रम में खाद्य सुरक्षा के अध्याय में से कृषि और वैश्वीकरण का प्रभाव विषय को हटाया गया है. इसी तरह धर्म, सांप्रदायिकता, धर्मनिरपेक्ष राज्य खंड में शामिल मशहूर शायर फैज अहमद फैज की नज्मों के दो अनुवादित अंशों को हटा दिया गया है. लोकतंत्र और विविधता अध्याय को भी हटा दिया है.
इस्लामिक साम्राज्य के उदय का इतिहास हटाया
11वीं कक्षा के इतिहास विषय के पाठ्यक्रम में शामिल अफ्रीकी-एशियाई क्षेत्रों में इस्लामी साम्राज्य के उदय, अर्थव्यवस्था और समाज पर इसके प्रभाव के बारे में बताया गया है. अब इसे हटा दिया गया है. इस अध्याय में इस्लाम के उद्भव, खलीफा के उदय और साम्राज्य निर्माण  जैसे विषयों के बारे में बताया गया है. 12वीं कक्षा के इतिहास के विषय मुगलों के सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक इतिहास के पुनर्निर्माण के लिए मुगल दरबारों के इतिहास की जानकारी को भी कोर्स से हटा दिया गया है.

इससे पहले साल 2020 में भी सीबीएसई के सिलेबस से कक्षा 11 के राजनीति विज्ञान विषय से संघवाद, नागरिकता, राष्ट्रवाद और धर्मनिरपेक्षता के अध्यायों पर छात्रों के आकलन के समय विचार नहीं करने के निर्देश दिए गए थे. जिस पर विवाद हो गया था. इसके बाद इन विषयों को 2021-22 के सत्र में फिर से बहाल किया गया.

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x