यमुना तट पर स्थित अंत्येष्टि स्थलों पर चला 132 वें चरण का सफाई अभियान

  • स्वच्छता अभियान पर गोष्ठी का आयोजन हुआ
  • गोष्ठी में मौजूद लोगों ने गंदगी न करने, न होने की शपथ ली

एक विचित्र पहल सेवा समिति रजि. औरैया द्वारा स्वच्छता अभियान व यमुना तट के सौंदर्यीकरण हेतु विगत 7 वर्षों से अनवरत अंत्येष्टि स्थलों पर सफाई अभियान चलाया जा रहा हैं, जिसके अंतर्गत आज दिनांक 17 अप्रैल 2022 दिन रविवार को प्रातः 7 बजे से अंत्येष्टि स्थलों पर 132 वें चरण का सफाई अभियान चलाया गया।

समिति के सदस्यों ने सफाई यंत्रों के सहयोग से लगभग दो कुंतल कचरा व अपशिष्ट आग द्वारा नष्ट किया, उसके उपरांत यमुना तट पर स्थित राम झरोखा में स्वच्छता अभियान पर गोष्ठी का आयोजन किया गया, बैठक में समिति के संस्थापक आनन्द नाथ गुप्ता एडवोकेट ने बताया कि स्वच्छता हम सभी के जीवन से जुड़ा हुआ महत्वपूर्ण विषय है, जिसके द्वारा शरीर, मस्तिष्क व आस-पास का कार्यक्षेत्र साफ और स्वच्छ होने से हमारे मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है।

लोगों को खुले में शौच, जगह-जगह कचरा फेंकना, प्लास्टिक-पॉलिथीन के उपयोग आदि प्रवृत्तियों पर जनहित में पाबंदी लगाने की जरूरत है, साफ-सफाई बेहद जरूरी है, पर्यावरण की सफाई सामाजिक और बौद्धिक स्वास्थ्य के लिए अति-आवश्यक है, जिससे हम तमाम बीमारियों से बच सकते हैं, विगत 2 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की 145 वीं जयंती पर मा. प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा स्वच्छ भारत अभियान राष्ट्रीय स्तर पर प्रारंभ किया गया था।

गोष्ठी में सभासद छैया त्रिपाठी ने कहा कि गांधी जी का सपना था, कि भारत के सभी नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ व निर्मल बनाने में अपना योगदान दें, उन्होंने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था, पर्यावरण को स्वच्छ रखना बेहद जरूरी है, क्योंकि पर्यावरण में उपलब्ध जो भी प्राकृतिक संसाधन है, जब तक वह सुरक्षित रहेंगे, तब तक पृथ्वी पर रहने वाले जीव भी सुरक्षित रहेंगे, देवेंद्र गुप्ता ने कहा कि इस पृथ्वी पर रहने वाले जीव केवल प्राकृतिक संसाधनों पर ही निर्भर हैं।

स्वच्छता एक अच्छी क्रिया है, जो हमारे जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाती है, व हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग भी है। गोष्ठी के अंत में मौजूद लोगों ने गंदगी न करने वह गंदगी न होने की शपथ ली, गोष्ठी के समापन पर नगर के प्रमुख व्यवसाई अखिलेश पोरवाल व सहायक पोस्टमास्टर दिगंबर सिंह ने बैकुंठ सेवा की वार्षिक सदस्यता ग्रहण की। अभियान व गोष्ठी में प्रमुख रूप से मनीष पुरवार (हीरू), रानू पोरवाल, अर्पित दुबे एडवोकेट, आनन्द गुप्ता(डाबर), अनूप बिश्नोई, व्यापारी नेता नीरज पोरवाल, कपिल गुप्ता अर्पित गुप्ता, मयंक गुप्ता, रज्जन बाल्मीक आदि यमुना मैया के सेवादार मौजूद रहे।

〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ 

शव यात्रा वाहन का 

शुल्क ₹500 के स्थान पर 

₹300 निर्धारित किया गया

〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️

आज दिनांक 17 अप्रैल 2022 दिन रविवार को प्रातः 7 बजे यमुना तट पर स्थित राम झरोखा में आयोजित बैठक के अंतर्गत सर्वसम्मति से समिति द्वारा औरैया नगर से लगभग 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित अंत्येष्टि स्थल तक संचालित बैकुंठ रथ (सम्मानजनक शव यात्रा वाहन) का शुल्क जनहित को दृष्टिगत रखते हुए *₹500/* के स्थान पर वास्तविक सेवा के रूप में *₹300/- तत्काल प्रभाव से निर्धारित कर दिया गया हैं। जोकि समिति द्वारा कल दिनांक 18 अप्रैल 2022 से प्रभावी होगा, जिससे इस महंगाई के दौर में पीड़ित परिवार के लोगों को राहत मिलेगी।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x