आपूर्ति निरीक्षक पर लग रहा घोटाले का आरोप

खबर चन्दौली से
केन्द्र व प्रदेश की सरकार गरीबों के खाद्यान्न को लेकर गम्भीर और नित नए कदम-कदम पर उठाकर उनका हक उन्हे दिलाने का प्रयास कर रही है। तो उन्ही के मातहत द्वारा अमली जामा पहनाये जाने में कोताही बरती जा रही है। जिसे लेकर गरीबों में आक्रोस व्याप्त है।
सकलडीहा तहसील क्षेत्र अन्तर्गत सैकड़ों गावों में खाद्यान्न को लेकर आये दिन उपभोक्ताओं द्वारा तहसील व आपूर्ति कार्यालय में राशन कार्ड सूची में नाम तो कहीं राशन की घटतौली तो कहीं राशन न मिलने से आये दिन लोग चक्कर काट रहे। जिसकी शिकायत आपूर्ति निरीक्षक से करने के बावजूद भी किसी प्रकार निदान सम्भव नही हो पाता है। राशनकार्ड उपभोक्ताओं का कहना है हम लोगों को कोटेदारों से द्वारा राशन नही दिया जा रहा है और कह रहे कि सूची में नाम नही है। जबकि सत्यता तो यह है कि ग्रामीण कई बार राशकार्ड फार्म भरकर आधार कार्ड संलग्न कर दिए। तो कभी सूची में नाम आ जाता है तो कभी कट जाता है। गरीबों के राशन में घटतौली व एपीएल कार्डघारकां द्वारा राशन न उठाये जाने के बावजूद कागजी कार्रवाई पूर्ण होना आमबात है। जब भी कोई इसकी शिकायत आपूर्ति निरीक्षक से करता है तो इधर-उधर कर टाल दिया जाता है। उपभोक्ताओं का कहना है कि आपूर्ति निरीक्षक अंगद की तरह पाव जमाये बैठे है।

इनकी पहुंच जिले के आलाधिकारियां सहित सफोदपोशां तक है जिससेकोई भी रिक्स नही लेना चाहता है। अगर कोटोदारों का निष्पक्ष तरीके से जांच करायी जाय तो हजारों कुल्टल गरीबों के खाद्यान्न के प्रत्येक माह होले वाले घोटाले का बड़ा पर्दाफास हो सकता हैं। अगर इस रोक नही जा रही तो क्यो? इस तरह के यक्ष प्रश्न लोगों के दिलो दिमांग में उमड़ घुमड़ रहा हैं अर जिले के आपूर्ति विभाग के लोगों को इसका जबाब जनता को देना चाहिए। राशनकार्ड धारकों ने इस ओर जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट करवाते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की है।
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x