पाकिस्तान में सिख लड़की का जबरन धर्म परिवर्तन और आतंकवादी से शादी

  • ननकाना साहिब में 27 अगस्त की रात कट्टरपंथी लड़की को घर से अगवा कर ले गए
  • पीड़ित परिवार का आरोप- लड़की का निकाह जबरन एक मुस्लिम युवक से कराया
  • घटना से पाकिस्तान और पंजाब के सिख समाज में गुस्सा, आरोपीपक्ष ने भी वीडियो जारी किया
  • परिवार ने मांगी पीएम इमरान खान से मदद

ननकाना साहिब-

पाकिस्तान में कट्टरपंथियों ने एक सिख लड़की (19) को अगवाकर जबरन धर्म परिवर्तन कराया। मर्जी के खिलाफ उसका निकाह भी करा दिया। पीड़िता के परिवार ने प्रधानमंत्री इमरान खान से मदद की गुहार लगाई है। परिजनने पुलिस को दी शिकायत में बतायाकि 27 अगस्त की रात कुछ हथियारबंद लोग घर में घुसे और बंदूक की नोंक पर लड़की को बंधक बनाकर ले गए।उसका ननकाना साहिब इलाके में एक मुस्लिम आतंंकवादी के साथ जबरन निकाह भी करवाया गया।लड़की कई दिनों से लापता थी। लड़की का नाम जगजीत कौर हैै।उसके पिता भगवान सिंह, गुरुद्वारा तंबू साहिब में ग्रंथी हैं।जगजीत को बंदूक की नोक पर इस्लाम कबूल करवाया गया।

जगजीत कौर के परिवार ने कहा है, ‘अगर बेटी को छोड़ा नहीं गया तो वह पंजाब गवर्नर हाउस के सामने आत्मदाह करेंगे।’

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू लड़कियों के जबरन निकाह करवाने के मामले पहले भी सामने आ चुके हैं।

शिरोमणि अकाली दल के विधायक मानजिंदर सिंह सिरसा ने गुरुवार को लड़की के परिजन का वीडियो शेयर किया।

उन्होंने लिखा, ‘‘पाकिस्तान के सिख इमरान खान से मदद मांग रहे हैं। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से अपील करता हूं कि लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाएं। पाकिस्तान में सिख धर्म पर खतरा मंडरा रहा है, इसलिए यह मुद्दा संयुक्त राष्ट्र UN में भी उठाया जाना चाहिए।’’’

लड़की को डराकर इस्लाम कबूल कराया : भाई

खुद कोलड़की का भाई बताने वाले मनमोहन सिंह ने वीडियो में कहा, ‘‘अगवा लड़की मेरी बहन है। उसे धमकी दी गई है कि अगर इस्लाम कबूल नहीं किया तो भाई और पिता की हत्या कर दी जाएगी। मैं प्रधानमंत्री इमरान खान और आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से मदद की अपील करता हूं।’’

पाक अल्पसंख्यकों को सुरक्षा दे: विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत समय समय पर पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ बुरे बर्ताव का मुद्दा उठाता रहता है। हमने शोषण, हिंसा, जबरन धर्म परिवर्तन कराने को लेकर चिंता जताई है। पाकिस्तान को अपने देश में रहने वाले अल्पसंख्यकों को पूरी सुरक्षा मुहैया कराने के कर्तव्य को निभाना चाहिए।

शिकायत वापस नहीं लेने पर अंजाम भुगतने की धमकी-

लड़की के पिता भगवान सिंह पाक के गुरुद्वारा तंबू साहब के मुख्य ग्रंथी हैं। परिवार का आरोप है कि उन्हें शिकायत वापस नहीं लेने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी मिली है। अगले ही दिन दूसरे (लड़के के) पक्ष ने एक वीडियो वायरल किया, जिसमें दावा किया गया है कि उस लड़की ने अपना धर्म बदल कर मुस्लिम लड़के के साथ निकाह किया है। वीडियो में लड़की को 3 बार ‘कबूल है’ कहते दिखाया गया है और उसका मुस्लिम नाम आयसा कर दिया गया है। 

परिवार ने बताया कि लड़की को धमकी दी गई थी है अगर उसने ऐसा नहीं किया तो उसके पिता और भाई को गाली मार दी जाएगी। दिल्‍ली में शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने यह मुद्दा उठाते हुए पीएम नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस मामले में मदद मांगी है। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान में ऐसी घटनाओं को लेकर सिख समुदाय के सभी लोगों में नाराजगी है। यह सिखों की धार्मिक स्‍वतंत्रता को खतरे में डालने जैसा है और इसलिए इस मुद्दे को संयुक्‍त राष्‍ट्र में उठाने की जरूरत है।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के उत्‍पीड़न, उनके खिलाफ हिंसा, उन्‍हें जबरन अगवा किए जाने और धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किए जाने की पहले भी कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने गुरुवार को ही इस बारे में एक सवाल के जवाब में कहा था कि पाकिस्‍तान को अपने यहां रह रहे अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के प्रति अपनी जवाबदेह‍ियों को पूरा करना चाहिए। इस दुखद घटना का सिक्ख समाज ने पुरजोर विरोध और प्रदर्शन किया। सच तो यह है कि अगर पाकिस्तान अपनी कमीनेपन की हरकतों  से बाज नहीं आया तो मजबूरन सिखों को अपनी बच्चियों को बचाने के लिए वही अपने पूर्वजों का वर्षों पुराना इतिहास  यानि बैटल ऑफ सारागढ़ी को वह दोहरा सकता है जो 12 सितम्बर 1897 को ब्रिटिश भारतीय सेना की 36 वीं रेजीमेंट और अफगान के कबालियों के बीच एक लड़ाई हुई थी। जिसमें मात्र 21 सिख सैनिकों ने दस हजार आक्रमणकारियों का डट कर मुकाबला किया था। 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x