हिटलर भी फैन हो गया बोस की बुद्धिमत्ता का-


नेताजी के तेज दिमाग का कायल हो गया था हिटलर, सुधारनी पड़ी थी गलती-


एक बार नेताजी हिटलर से मिलने गए. नेताजी को एक कमरे में बिठा दिया गया। उस दौरान दूसरा विश्व युद्ध चल रहा था और हिटलर की जान को खतरा था इसलिए वह अपने आस-पास बॉडी डबल रखता था जो बिल्कुल उसी के जैसे लगते थे। 

थोड़ी देर बाद नेता जी से मिलने के लिए हिटलर की शक्ल का एक शख्स आया और नेताजी की तरफ हाथ बढ़ाया. नेताजी ने हाथ तो मिला लिया लेकिन मुस्कुराकर बोले- आप हिटलर नहीं हैं मैं उनसे मिलने आया हूं। वह शख्स सकपका गया और वापस चला गया।थोड़ी देर बाद हिटलर जैसा दिखने वाला एक और शख्स नेता जी से मिलने आया।हाथ मिलाने के बाद नेताजी ने उससे भी यही कहा कि वे हिटलर से मिलने आए हैं ना कि उनके बॉडी डबल से।

कुछ ही समय बाद हिटलर आया. नेता जी उसे पहचान गए. नेताजी बोले- मैं सुभाष हूं… भारत से आया हूं.. लेकिन हाथ मिलाने से पहले कृपया दस्ताने उतार दें क्योंकि मैं मित्रता के बीच में कोई दीवार नहीं चाहता. नेताजी की आत्मविश्वास से भरी आवाज ने हिटलर को प्रभावित कर दिया।हिटलर ने तुरंत पूछा कि आपने मेरे हमशक्लों को कैसे पहचान लिया. तो नेताजी ने कहा- ‘उन दोनों ने अभिवादन के लिए पहले हाथ बढ़ाया जबकि ऐसा मेहमान करते हैं.’ नेताजी की बुद्धिमत्ता का हिटलर कायल हो गया।

यही नहीं हिटलर ने अपनी आत्मकथा Mein Kampf में कई जगह भारतीयों की आलोचना की थी जिसका नेताजी ने तर्कों के साथ खंडन किया. हिटलर को नेताजी की बात माननी पड़ी थी और उसने अपनी किताब के अगले एडिशन से किताब का वो खंड हटवा दिया था.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x