मैं 85 का हूं, जिंदगी जी चुका हूं… बोलकर RSS के नारायण ने युवा मरीज को दे दिया अपना बेड, घर पर हुआ निधन

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने लोगों का दिल दहला कर रख दिया है। हर रोज कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही हैं। वहीं कोरोना मरीजों की मौत भी बड़ी संख्या में हो रही है।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है। संक्रमितों की बढ़ती संख्या को अस्पताल भी अब नहीं संभाल पा रहे। दिल्ली-मुंबई के हालात को काफी दयनीय है। अस्पतालों में लोग ऑक्सीजन की कमी के कारण एक-एक सांस के लिए तरस रहे हैं।

दवा और ऑक्सीजन की कमी के कारण भारी संख्या में मरीजों की मौत हो रही हैं। लोगों का दर्द देखकर मानवता के कारण कुछ लोग जमीनी स्तर पर मदद करने की कोशिश कर रहे हैं। कहीं सोशल मीडिया पर लोगों की मदद करके ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करवाया जा रहा है तो कहीं मरीजों को अस्पताल में बेड उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। कोरोना के हालात को देखते हुए एक 85 साल के बुजुर्ग ने 40 साल के महिला की जान देकर मदद की।

एक युवा मरीज के लिए नागपुर के अस्पताल से स्वेच्छा से बाहर निकले 85 वर्षीय व्यक्ति की मंगलवार को उसके घर पर मौत हो गई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सदस्य नारायण दाभलकर को कोविड -19 के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद नागपुर के इंदिरा गांधी सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

ऑक्सीजन का स्तर को कम होने के बावजूद नारायण दाभलकर ने अपने डॉक्टरों की चिकित्सा सलाह के खिलाफ जाकर एक महिला को उसके 40 वर्षीय पति को अस्पताल में भर्ती करवाने के लिए बेड दे दिया। बुजुर्ग नारायण की हालत खराब थी लेकिन उन्होंने पति के लिए विनती करती महिला को बेड दे दिया और अस्पताल से छुट्टी ले ली।

85 वर्षीय ने कथित तौर पर डॉक्टरों से कहा, “मैं 85 साल का हूं। मैंने अपनी जिंदगी जी ली है। एक जवान आदमी के जीवन को बचाना अधिक महत्वपूर्ण है। उनके बच्चे छोटे हैं, कृपया उन्हें मेरा बिस्तर दें।”

 

डॉक्टरों ने ऑक्टोजेरियन को बताया कि उनकी हालत स्थिर नहीं है और अस्पताल में इलाज आवश्यक है।  हालांकि 85 वर्षीय नारायण ने अपनी बेटी को बुलाया और उसे स्थिति से अवगत कराया। घर लाने के तीन दिन बाद उनकी मृत्यु हो गई। सोमवार को सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में कहा गया कि नारायण दाभलकर ने एक युवा मरीज के लिए बिस्तर त्याग दिया था।

दाभलकर की बेटी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 22 अप्रैल को जब उनका ऑक्सीजन का स्तर गिरा, तो हम उन्हें IGR में ले गए। हमें बहुत प्रयास के बाद एक बिस्तर मिला लेकिन वह कुछ घंटों में घर वापस आ गए। मेरे पिता ने कहा कि वह हमारे साथ अपने अंतिम क्षणों को बिताना पसंद करेंगे। उन्होंने यह भी बताया। उन्होंने यह भी कहा कि एक युवा मरीज के कारण उन्होंने अपना बेड त्याग दिया।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x