INX Media Case: चिदंबरम को राहत नहीं, CBI कोर्ट ने 26 अगस्त तक रिमांड पर भेजा-

  • पांच दिन की सीबीआई हिरासत में रहेंगे चिदंबरम
  • आरोपी की निजी गरिमा का हनन ना हो- सीबीआई
  • CBI की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पक्ष रखा

आईएनएक्‍स मीडिया केस (INX Media Case) मामले में पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम (Former Home Minister P Chidambaram) को पांच दिन की सीबीआई रिमांड पर भेजा गया है। चिदंबरम 26 अगस्त तक सीबीआई की हिरासत में रहेंगे। सीबीआई के राउज एवेन्यू कोर्ट में सीबीआई जज अजय कुमार के सामने चिदंबरम की पेशी हुई। उसके बाद कोर्ट ने चिदंबरम को राहत नहीं दी। हालांकि कोर्ट ने उनके परिवार और वकील को हर दिन 30 मिनट तक मुलाकात करने की इजाजत दी है।

पी.चिदंबरम को सीबीआई मुख्यालय में रखा गया है। थोड़ी देर बाद चिदंबरम से सीबीआई की टीम पूछताछ करेगी। सीबीआई कोर्ट ने कहा कि आरोपी की निजी गरिमा का हनन ना हो इसका ध्यान रखा गया है। कोर्ट ने हर 48 घंटों में चिदंबरम की हेल्थ चेकअप कराने का भी आदेश दिया है। बता दें कि चिदंबरम पर कोर्ट को 5:30 बजे फैसला आना था। लेकिन तय समय से एक घंटे बाद फैसला आया।

 

गौरतलब है कि चिदंबरम (Former Home Minister P Chidambaram) को गुरुवार सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई के राउज एवेन्यू कोर्ट में सीबीआई जज अजय कुमार के सामने चिदंबरम की पेशी हुई। सीबीआई ने पांच दिन की रिमांड मांगी थी। सीबीआई और चिदंबरम के वकीलों की ओर से कोर्ट के सामने दलीलें रखी गई हैं।

कोर्ट में चिदंबरम पर लगे आरोपों की जानकारी सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने दी। तुषार मेहता ने कहा कि FIR में संक्षिप्त आरोप हैं। चिदंबरम से बात करने के लिए समय चाहिए। FIPB के नियमों का उल्लंघन किया गया है।

कोर्ट में पी चिदंबरम पर फैसला सुरक्षित

कोर्ट ने पी चिदंबरम को बोलने की मंजूरी दी

चिदंबरम ने आरोपों से इनकार किया

मेरा विदेश में कोई बैंक खाता नहीं

बेटे कार्ति का बैंक खाता विदेश में है

मैंने हर सवाल का जवाब दिया

पैसे के बारे में मुझसे कोई सवाल नहीं किया गया

स्पेशल कोर्ट में सुनवाई के बाद पी चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बिल अभिषेक मनु सिंघवी कोर्ट रूम से बाहर निकल गए।

चिदंबरम की स्पेशल कोर्ट में पेशी अपडेट:

CBI की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पक्ष रखा

‘हिरासत में लेकर चिदंबरम से पूछताछ सही तरीके से होगी’

‘चिदंबरम ने जांच में सहयोग नहीं किया’

‘चुप रहना अधिकार है, लेकिन सच छुपाना गलत है’

चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बिल ने रखी दलील

सिब्बल ने चिदंबरम को हिरासत में लेने का विरोध किया

कोर्ट में कपिल सिब्बल की दलील

‘केस के बाकी आरोपियों को जमानत मिल चुकी है’

‘कार्ति चिदंबरम, इंद्राणी, पीटर मुखर्जी को जमानत मिल चुकी’

‘ईडी और सीबीआई ने जब-जब बुलाया चिदंबरम गए’

‘2017 के बाद से सवाल क्यों नहीं पूछे गए’

‘CBI और ED की पूछताछ से चिदंबरम कभी नहीं भागे’

‘पूछताछ के लिए सीबीआई के पास सवाल नहीं थे’

‘पी चिदंबरम पिछले 24 घंटों से सोए नहीं थे। 

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने रखी दलील

गौरतलब है कि चिदंबरम (Former Home Minister P Chidambaram) को गुरुवार सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई के राउज एवेन्यू कोर्ट में सीबीआई जज अजय कुमार के सामने चिदंबरम की पेशी हुई। सीबीआई ने पांच दिन की रिमांड मांगी थी। सीबीआई और चिदंबरम के वकीलों की ओर से कोर्ट के सामने दलीलें रखी गई हैं।

कोर्ट में चिदंबरम पर लगे आरोपों की जानकारी सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने दी। तुषार मेहता ने कहा कि FIR में संक्षिप्त आरोप हैं। चिदंबरम से बात करने के लिए समय चाहिए। FIPB के नियमों का उल्लंघन किया गया है।

कोर्ट ने पी चिदंबरम को बोलने की मंजूरी दी

चिदंबरम ने आरोपों से इनकार किया

मेरा विदेश में कोई बैंक खाता नहीं

बेटे कार्ति का बैंक खाता विदेश में है

मैंने हर सवाल का जवाब दिया

पैसे के बारे में मुझसे कोई सवाल नहीं किया गया

CBI Court reserves its order on an application of CBI seeking five day remand of former Finance Minister P Chidambaram in INX media case.

स्पेशल कोर्ट में सुनवाई के बाद पी चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बिल अभिषेक मनु सिंघवी कोर्ट रूम से बाहर निकल गए।

पी चिदंबरम का पक्ष अभिषेक मनु सिंघवी ने रखा

सिंघवी बोले- चिदंबरम को बोलने की इजाजत मिले

सॉलिसिटर जनरल (SG) ने बोलने की इजाजत का विरोध किया

जज ने चिदंबरम से पूछा क्या आपके पास बोलने के लिए कुछ है

जून 2018 में सीबीआई ने पूछताछ की थी

पूरा मामला इंद्राणी के बयान पर निर्भर करता है

फैसले को मंजूरी देने वालों को आरोपी बनाया गया

फैसला करने वाले 6 लोग गिरफ्तार नहीं

सीबीआई इतनी परेशान क्यों हैं

पूरे केस में सीबीआई का रवैया ही गलत है

सीबीआई ने 11 महीने तक चिदंबरम को फोन नहीं किया

सीबीआई ने 14 महीने में 1 बार बुलाया

11 साल बाद चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया

सीबीआई अचानक गिरफ्तारी पर अमादा क्यों

चिदंबरम वो जवाब नहीं देंगे जो सीबीआई पूछना चाहती है

आरोपी को जो जवाब देना है वही देगा- सिंघवी

फरबरी 2018 में इंद्राणी ने बयान दिया था

सिर्फ इंद्राणी मुखर्जी के बयान को आधार बनाया गया। 

गौरतलब है कि पी चिदबंरम को बुधवार की रात को गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई मुख्यालय के बाहर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है। वहीं राउज एवेन्यू कोर्ट में पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी, बेटा कार्ति चिदंबरम, वकील अभिषेक मनु सिंघवी, कपिल सिब्बल, विवेक तन्खा मौजूद रहे हैं।

इससे पहले बुधवार रात करीब 10.16 मिनट पर सीबीआई ने अपने दफ्तर में कांग्रेस के दिग्गज नेता पी चिदंबरम को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार करने से पहले सीबीआई ने पी चिदंबरम को उनके जोरबाग स्थित घर से हिरासत में लिया।

चिदंबरम बुधवार की रात सीबीआई हेडक्वार्टर में रहे। सूत्रों के मुताबिक चिदंबरम को सीबीआई हेडक्वार्टर के गेस्ट हाउस के सुइट नंबर 5 में रखा गया।

सीबीआई ने पांच दिन की रिमांड मांगी-

सीबीआई ने स्पेशल कोर्ट से चिदंबरम को 5 दिन की रिमांड मांगी है। ये भी कहा जा रहा है कि उनसे पूछताछ के बाद सीबीआई इस मामले में चार्जशीट फाइल कर सकती है।

कार्ति चेन्‍नई से दिल्‍ली रवाना-

दूसरी तरफ पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम को जमानत पर छुड़ाने के लिए उनके वकील आज सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करेंगे। याचिका दायर करने के लिए चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम चेन्‍नई से नई दिल्‍ली के लिए रवाना हो चुके हैं।

27 घंटे तक चला ड्रामा-

इससे पहले सीबीआई और ईडी की टीम करीब 27 घंटे तक पी चिदंबरम की तलाश कर रही थी, लेकिन चिदंबरम अपने घर पर मौजूद नहीं थे। चिदंबरम की तलाश में सीबीआई की टीम मंगलवार शाम से तीन बार उनके घर गई। लेकिन हर बार उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा।

सीबीआई अधिकारियों ने मंगलवार देर रात उनके घर के बाहर नोटिस चिपकाते हुए उन्हें दो घंटे के अंदर पेश होने को कहा था। इसके बाद सीबीआई और ईडी की तरफ से चिदंबरम के खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया था।

मीडिया को बताया- सभी आरोप झूठे-

करीब 24 घंटे से ज्‍यादा समय तक गायब रहने वाले चिदंबरम बुधवार रात अचनाक ही कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे। वहां उन्होंने मीडिया को बताया कि उनके खिलाफ लगाए गए आरोप झूठे हैं। प्रेसवार्ता के दौरान उनके साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद और अभिषेक मनु सिंघवी भी मौजूद थे।

SC ने दिया बड़ा झटका-

इससे पहले मंगलवार को गिरफ्तारी से बचने के लिए दिन भर चिदंबरम के वकील सुप्रीम कोर्ट का चक्कर काटते रहे, लेकिन कोर्ट ने आईएनएक्‍स मीडिया केस (INX Media Case) को सुनने से इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट की दलील थी कि ये ऐसा मामला नहीं है जिस पर तुरंत सुनवाई हो।

कोर्ट ने कहा कि पहले इस केस को लिस्ट किया जाए। बुधवार को भी चिदंबरम को सुनवाई के बावजूद राहत नहीं दी। इसके उनकी गिरफ्तारी का रास्‍ता साफ हो गया।

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद किया गिरफ्तार-

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से आईएनएक्‍स (INX Media Case) मामले में रियायत नहीं मिलने के बाद सीबीआई की 30 अधिकारियों की तीन टीमें बुधवार रात दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ जोर बाग स्थित चिदंबरम के घर पर पहुंची।
मेन गेट नहीं खोला गया तो अधिकारियों ने परिसर की दीवार फांदकर घर में प्रवेश किया। बाद में प्रवर्तन निदेशालय (ED) की एक टीम भी वहां पहुंची। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया।

    आइएनएक्स मीडिया मामले में केवल चार करोड़ रुपये विदेशी निवेश का एफआइपीबी क्लीयरेंस दिया गया था। इसके बाद इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी 305 करोड़ रुपये का विदेशी निवेश ले आए। एफआइपीबी और आयकर विभाग के अधिकारियों ने इस गड़बड़ी को पकड़ लिया था और कार्रवाई शुरू कर दी थी, लेकिन इस बीच इंद्राणी मुखर्जी ने कार्ति चिदंबरम के मार्फत पी. चिदंबरम से दिल्ली के हयात रेजेंसी में मुलाकात की। सरकारी गवाह बनी इंद्राणी मुखर्जी ने मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज अपने बयान में बताया कि पी. चिंदबरम ने उन्हें कार्ति के संपर्क में रहने का निर्देश दिया। इसके बाद कार्ति से जुड़ीं कंपनियों में पैसे दिए गए और पी. चिदंबरम ने आइएनएक्स मीडिया में निवेश पर एफआइपीबी की मुहर लगवा दी। 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x