जम्मू कश्मीर: किश्तवाड़ में भीषण सड़क हादसा, 35 लोगों की मौत, 17 घायल-

  • जम्‍मू-कश्‍मीर में एक बस के खाई में गिर जाने से 35 लोगों की मौत, कई घायल
  • मेटाडोर केशवान से किश्‍तवाड़ जा रही थी और इसी बीच हादसे का शिकार हो गई
  • एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस हादसे में अब तक 35 लोगों की मौत

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में एक भीषण सड़क हादसा सामने आया है। यहां एक मिनी बस एक गहरी खाई में गिर गई और हादसे का शिकार हो गई। इस हादसे में अबतक 35 लोगों की मौत हो चुकी हैं। वहीं घायलों की संख्या 17 बताई जा रही है। घायल लोगों में से तीन को जम्मू एयरलिफ्ट किया गया है। घायलों को एयरलिफ्ट करने के लिए एक और हेलिकॉप्टर किश्तवाड़ रवाना हो चुका है। 

इस बीच जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में सड़क दुर्घटना पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में हुआ हादसा दिल दहला देने वाला है। हम उन सभी लोगों के प्रति शोक व्यक्त करते हैं जिन्होंने अपना जीवन खो दिया और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। उन्होंने घायलों के जल्द से जल्द ठीक होने की कामना की।

इस बीच जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में सड़क दुर्घटना पर गृह मंत्री अमित शाह ने दुख जताया है। गृह मंत्री अमित शाह ने हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट की है। अमित शाह ने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना की है।

 

इस बीच जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किश्तवाड़ सड़क दुर्घटना में मारे गए लोगों के लिए अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मृतक के परिजनों को 5-5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की और किश्तवाड़ सड़क दुर्घटना में घायलों को सर्वोत्तम चिकित्सा प्रदान करने के लिए प्रशासन को निर्देश दिया।

शवों को निकाला जा रहा है। घायलों को जम्मू एयरलिफ्ट करने की कोशिश जारी है।’ जानकारी के मुताबिक अभी शवों को मौके से निकाला नहीं जा सका है। घायलों को जम्मू एयरलिफ्ट करने का प्रयास किया जा रहा है।

बता दें, यह हादसा किश्तवाड़ के सिरगवारी केशवन इलाके में हुआ, जहां एक मिनी बस के एक गहरी खाई में गिर गई। मिनीबस का नंबर जेके-17-6787 बताया जा रहा है। यह हादसा सुबह करीब पौने आठ बजे हुआ। मिनीबस में क्षमता से कहीं ज्यादा यात्री सवार थे। यह मिनीबस यात्रियों को लेकर केशवन से किश्तवाड़ की तरफ आ रही थी।पुलिस और सेना के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। राहत और बचाव अभियान चल रहा है और घायलों को अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक ओवरलोडिंग, तेज रफ्तार और जर्जक सड़क की स्थिति के कारण पिछले दिनों डोडा, किश्तवाड़, राजौरी और पुंछ जिलों की पहाड़ियों में भीषण हादसे हुए हैं।

27 जून को एक निजी कंप्यूटर प्रशिक्षण संस्थान के 11 छात्रों की मौत मुगल रोड के पीर की गली इलाके में एक दुखद दुर्घटना में हुई थी, जो जम्मू डिवीजन में राजौरी-पुंछ जिलों को जोड़ता है।इस दुर्घटना के बाद, पुंछ जिले के अधिकारियों ने सभी शिक्षण संस्थानों द्वारा भ्रमण पर प्रतिबंध लगा दिया था जब तक विशेष रूप से जिला प्रशासन द्वारा अनुमति न दी जाए।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x