जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर में है हानिकारक केमिकल – रिपोर्ट पढ़े़


           समाचार एजेंसी रॉयटर्स की इनवेस्टिगेटिव रिपोर्ट में सामने आया है कि 1971 से 2000 तक कंपनी के बेबी पाउडर की जांच में कई बार कैंसर फैलाने वाला हानिकारक केमिकल एसबेस्टस पाया गया था।

In the Investigative Report of the Reuters news agency, it has come out that from 1971 to 2000, the harmful chemical asbestos was found to be cancerous in the company’s baby powder investigation several times.

अमेरिकी फार्मा कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन को काफी पहले से पता था कि उसके बनाए बेबी पाउडर में कैंसर फैलाने वाला हानिकारक केमिकल एसबेस्टस मौजूद है.

कुछ समाचार एजेंसियों के दावे में कुछ गोपनीय दस्तावेजों और सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है.

इसमें कहा गया है  कि 1971 से 2000 तक कंपनी के बेबी पाउडर की जांच में कई बार एसबेस्टस पाया गया.

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि जॉनसन एंड जॉनसन के अधिकारियों, प्रबंधकों, वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और वकीलों को भी इसकी जानकारी थी, लेकिन उन्होंने इसे छिपाए रखा.

अमेरिकी नियामक चाहते थे कि कॉस्मेटिक टैल्कम पाउडर में एसबेस्टस की मात्रा सीमित की जाए, लेकिन कंपनी ने इन कोशिशों के खिलाफ नियामकों पर दबाव बनाया और काफी हद तक कामयाब भी रहा.

हालांकि जॉनसन एंड जॉनसन ने इन सभी आरोपों से इनकार किया है. कंपनी का कहना है कि याचिकाकर्ताओं के वकीलों ने अपने फायदे के लिए दस्तावेजों के साथ छेड़छाड़ की ताकि अदालत में भ्रम का माहौल पैदा किया जा सके.

उनका कहना है कि उनके पाउडर में कोई हानिकारक पदार्थ मौजूद नहीं है, यह उन सभी टेस्ट्स से ध्यान हटाने की कोशिश है.

जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी पाउडर पर इससे पहले भी कई बार हानिकारक केमिकल होने के आरोप लगे हैं.

जुलाई में जॉनसन एंड जॉनसन पर अमेरिका में 32000 करोड़ रुपये (4.7 बिलियन डॉलर) के जुर्माने का आदेश जारी किया गया था. यह जुर्माना सैंट लुइस कोर्ट ने कंपनी के पाउडर में कैंसर फैलाने वाला केमिकल ‘एसबेस्टस’ मिलने के बाद लगाया था.

गौरतलब है कि जॉनसन एंड जॉनसन वर्तमान में पूरे अमेरिका में मुकदमों का सामना कर रहा है. इसके उत्पादों के द्वारा गर्भाशय का कैंसर होने का दावा करने वाली महिलाओं द्वारा 9,000 से ज्यादा मुकदमे दर्ज कराए गए हैं. ज्ञात हो कि ऐसे ही एक मामले में पिछले साल वर्जिनिया में कंपनी को लगभग 70 करोड़ (10 मिलियन डॉलर) का जुर्माना सहना पड़ा था.

इससे पहले 2016 में भी कंपनी को एक कैंसर के मरीज को समान समस्या होने के चलते 375 करोड़ (55 मिलियन डॉलर) का हर्जाना भरना पड़ा था.

बीबीसी के मुताबिक रॉयटर्स की यह रिपोर्ट सामने के आने के बाद अमेरिकी शेयर बाजार में कंपनी के शेयर्स में भारी गिरावट दर्ज की गई. इसके शेयर 10 फीसदी गिर गए.

इससे पहले 19 जुलाई 2002 को कंपनी के शेयर्स में 16 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी. इसके बाद से यह दूसरी सबसे बड़ी गिरावट है.

American Pharma Company Johnson & Johnson had known long ago that the harmful chemical asbestos presenting cancer in its made baby powder is present.

Reports of the Reuters report claimed this by quoting some confidential documents and sources.

It has been said that asbestos was found several times in the investigation of the baby powder from 1971 to 2000.

It has also been reported in the report that Johnson and Johnson officials, managers, scientists, doctors and lawyers were aware of this, but they kept it hidden.

US regulators wanted to limit the amount of asbestos in cosmetic talcum powder, but the company pressurized the regulators against these efforts and was also quite successful.

Although Johnson and Johnson have denied all these charges. The company says that the lawyers of the petitioners tampered with the documents for their benefit so that the atmosphere of confusion can be created in the court.

They say that there is no harmful substance in their powder, it is an attempt to divert attention from all those tests.

Johnson and Johnson’s baby powder has been accused of having harmful chemicals several times before.

In July, an order for a fine of US $ 32,000 ($ 4.7 billion) in the US was issued on Johnson and Johnson. This fine was imposed by Saint Louis Court after getting ‘cancer’ asbestos chemical in the company’s powder.

Significantly, Johnson and Johnson are currently facing litigations throughout the United States. More than 9,000 cases have been filed by women claiming to have uterine cancer through its products. It is known that in one such case last year, the company had suffered a fine of approximately 70 million dollars ($ 10 million) in Virginia.

Earlier in 2016, the company had to pay a compensation of 375 crores (55 million dollars) due to a similar problem to a cancer patient.

According to the BBC, after the Reuters report came to light, the company’s shares in the US stock market have fallen sharply. Its shares fell 10 percent.

Earlier, on July 19, 2002, the company’s shares were down 16%. This is the second biggest drop since then.

देश में ड्रग्स रेगुलेटर ने जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर का सैंपल हिमाचल प्रदेश में कंपनी की फैक्ट्री से जब्त किया है. ड्रग्स रेगुलेटर की तरफ से यह कदम जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ लगे आरोप के बाद उठाया गया. न्यूज एजेंसी रायटर की खबर के मुताबिक दुनिया का सबसे मशहूर और 100 साल से अधिक पुराना जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर में कैंसर पैदा करने वाले तत्व पाए जाने की संभावना है.

ड्रग्स रेगुलेटर ने खबरों के आधार पर फैक्ट्री से बेबी पाउडर का सैंपल एकत्र कर लिया है क्योंकि ड्रग्स रेगुलेटर का मानना है कि यदि पाउडर में कैंसर वाले तत्व हैं तो इससे बड़ी संख्या में बच्चों को नुकसान पहुंच रहा है.

रायटर ने बीते हफ्ते दावा किया था जानसन एंड जानसन को इस बात की जानकारी बीते कई दशक से है कि उसके बेबी प्रोडक्ट में कैंसर के तत्व हैं. इसके बावजूद कंपनी ने जानबूझ कर इस तथ्य को छिपाने का काम किया है.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x