उपलब्धि : कांडा के वैभव ने अंडर —19 क्रिकेट में दिल्ली के लिए सत्र में सबसे ज्यादा रन जुटाए-

बागेश्वर।

बागेश्वर के कांडा तहसील के ससौला गांव के मूल निवासी और दिल्ली की अंडर -19 टीम सदस्य वैभव कांडपाल ने इस साल अपनी टीम के लिए सर्वोच्च स्कोर खड़ा कियाहै। उनकी इस उपलब्धि से उनका पैतृक गांव झूम उठा है। 
कम उम्र में ही खेल में दिलचस्पी बढ़ाने वाले और एमएस धोनी को अपना आइडल बनाने वाले वैभव ने अपने अंडर -14 से ​क्रिकेट में पदार्पण किया था। खेलके प्रति उनकी प्रतिबद्धता और निरंतरता की वजह से उनका यह सीजन प्रभावशाली रहा है।

दिल्ली के लिए आठ मैचों में, उन्होंने 820 रन बनाए, जिसमें चार शतक और दो अर्द्धशतक शामिल थे। जिसमें महाराष्ट्र के खिलाफ तीसरे लीग मैच में 215 शामिल थे। निराशाजनक बात यह है कि उनके प्रयासों के बावजूद, दिल्ली इस सीजन में कूचबिहार ट्रॉफी के नॉकआउट के लिए क्वालीफाई करने में विफल रही।

वैभव के पिता प्रकाश कांडपाल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के कर्मचारी हैं और माता शकुंतला कांडपाल केंद्र सरकार की कर्मचारी हैं। कई अन्य नवोदित क्रिकेटरों की तरह, उनका परिवार साधारण है, लेकिन उनके पिता ने उन्हें एक अच्छे स्कूल में भेज दिया, जिससे वैभव को श्री वेंकटेश्वर कॉलेज में दाखिला लेने में मदद मिली। वैभव राजनीति विज्ञान का छात्र हें और पढ़ाई के साथ अपनी प्रेक्टिस भी जारी रखते हैं।

उनका कहना है कि विश्व क्रिकेट में कोई भी ऐसा नहीं है जो दबाव को संभालने के तरीके से धोनी की बराबरी कर सके, वैभव ने ​क्रिएटिव न्यूज एक्सप्रेस सीएनई को बताया दिल्ली के खिलाफ तमिलनाडु के आखिरी लीग मैच ड्रॉ पर समाप्त हुआ था जबकि एकमुश्त जीत दिल्ली को नॉकआउट चरणों में ले जा सकती थी।

उन्हें भारतीय कप्तान विराट कोहली ने उन्हें अपना ध्यान केंद्रित रखने के लिए कहा, वैभव उसी रास्ते पर चल रहे हैं।

अपनी बल्लेबाजी के लिए, वैभव धैर्य से खेलना पसंद करते हैं, लेकिन मौका मिलते ही बड़े शॉट भी लगाते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं मध्यक्रम का बल्लेबाज हूं और किसी भी तरह की चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हूं।
वैभव के बचपन के कोच मदन लाल हैं। भारतीय टीम के चयनकर्ता और मुख्य कोच लाल ने कहा, “आठ मैचों में चार शतक बताते हैं कि यह आदमी कुछ बड़ा कर सकता है।”

वैभव दाएं हाथ से ऑफ-स्पिन गेंदबाजी भी करते हैं और भारत के पूर्व खिलाड़ियों हृषिकेश कानिटकर की याद दिलाते हैं। उन्होंने बताया मैं 10 से अधिक वर्षों से इस खेल को खेल रहा हूं और मैंने अब तक जो सबसे बड़ा सबक सीखा है, वह है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देता रहूं और किसी चीज से डरूं नहीं।

वैभव ने कहा, मैंने अपने राज्य की टीम के लिए 5 साल तक बल्लेबाजी की है और मुझे उम्मीद है कि मैं लगातार अच्छा प्रदर्शन करूंगा।उनकी ताजा उपलब्धि पर गांव में दादा धर्मानंद, दादी कमला कांडपाल, चाचा हेम कांडपाल, कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष दीप कांडपाल, ग्राम प्रधान ससौला पुष्पा कांडपाल, प्रकाश नगरकोटी, ग्राम प्रधान मंतौली प्रकाश भट्ट ने हर्ष जताया है।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x