सुविचार : प्रेरणादायी दुर्लभ बातचीत

रामकृष्ण परमहंस

       और

स्वामी विवेकानंद

 

 

 

1. स्वामी विवेकानंद : – मुझे खाली समय नहीं मिल रहा है। जीवन व्यस्त हो गया है।

 

 रामकृष्ण परमहंस : – गतिविधि आपको व्यस्त बनाती है। लेकिन उत्पादकता आपको मुक्त कर देती है।

 

.2 स्वामी विवेकानंद: – जीवन अब जटिल क्यों हो गया है?

 

 रामकृष्ण परमहंस: – जीवन का विश्लेषण करना बंद करो … यह जटिल बनाता है। बस इसे जीते रहो।

 

 3. स्वामी विवेकानंद : – फिर हम लगातार दुखी क्यों होते हैं?

 

 रामकृष्ण परमहंस: – चिंता आपकी आदत बन गई है.इसलिए आप खुश नहीं हैं।

 

 4. स्वामी विवेकानंद: –  अच्छे लोग हमेशा क्यों पीड़ित होते हैं?

 

 रामकृष्ण परमहंस : – डायमंड को बिना घर्षण के पॉलिश किया जा सकता है। आग को आग के बिना शुद्ध नहीं किया जा सकता है। अच्छे लोग परीक्षणों से गुजरते हैं, लेकिन पीड़ित नहीं होते हैं। उस अनुभव के साथ उनका जीवन बेहतर हो जाता है, कड़वा नहीं।

 

 5. स्वामी विवेकानंद:  – आप कहने का मतलब है कि ऐसा अनुभव उपयोगी है?

 

रामकृष्ण परमहंस : – हाँ। हर शब्द में, अनुभव एक कठिन शिक्षक है। वह परीक्षा पहले और बाद में सबक देती है।

 

6. स्वामी विवेकानंद: – इतनी सारी समस्याओं के कारण, हम नहीं जानते कि हम कहां जा रहे हैं.. 

 

 रामकृष्ण परमहंस: – यदि आप बाहर देखते हैं तो आपको पता नहीं चलेगा कि आप कहां जा रहे हैं। अंदर देखो। आइए दृष्टि प्रदान करते हैं। हार्ट मार्ग प्रदान करता है।

 

7. स्वामी विवेकानंद: –  क्या सही दिशा में आगे बढ़ने से विफलता अधिक होती है?

 

 रामकृष्ण परमहंस:  – सफलता दूसरों द्वारा तय की गई एक उपाय है। संतुष्टि आपके द्वारा तय की गई एक उपाय है। 

 

 8. स्वामी विवेकानंद: – मुश्किल समय में, आप कैसे प्रेरित रहते हैं?

 

रामकृष्ण परमहंस:  – हमेशा देखें कि आप कितनी दूर तक गए हैं इसके बजाए आप कितने दूर आए हैं। हमेशा अपना आशीर्वाद गिनें, न कि आप क्या खो रहे हैं।

 

9. स्वामी विवेकानंद: – लोगों के बारे में आपको क्या आश्चर्य है?

 

 रामकृष्ण परमहंस:  – जब वे पीड़ित होते हैं तो वे पूछते हैं, “मुझे क्यों?” जब वे समृद्ध होते हैं, तो वे कभी नहीं पूछते “मुझे क्यों?”

 

 10. स्वामी विवेकानंद: –  मैं जीवन से सबसे अच्छा कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

 

 रामकृष्ण परमहंस : – अफसोस के बिना अपने अतीत का सामना करें। अपने वर्तमान को आत्मविश्वास से पकड़ो। डर के बिना भविष्य के लिए तैयार रहो।

 

 11. स्वामी विवेकानंद: – एक आखिरी सवाल। कभी-कभी मुझे लगता है कि मेरी प्रार्थनाओं का उत्तर नहीं दिया जाता है।

 

रामकृष्ण परमहंस: – कोई अनुत्तरित प्रार्थना नहीं है। विश्वास रखें और भय छोड़ दो। जीवन हल करने का एक रहस्य है, हल करने में कोई समस्या नहीं है। मेरा विश्वास करो। जीवन अद्भुत है अगर आप जानते हैं कि कैसे रहना है।

        हमेशा खुश रहो!

http://akaksha11.blogspot.com/?m=1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *