Nation Herald Case

नेशनल हेराल्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के केस 

नेशनल हेराल्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की कार्रवाई लगातार जारी है। ईडी ने मंगलवार को नेशनल हेराल्ड के दफ्तर समेत 12 स्थानों पर छापेमारी की थी। इसके एक दिन बाद बुधवार को जांच एजेंसी ने हेराल्ड हाउस स्थित यंग इंडिया के दफ्तर को अस्थायी तौर पर सील कर दिया है।

एक अधिकारी ने बताया कि तलाशी के दौरान यंग इंडिया के दफ्तर में एक भी जिम्मेदार कर्मचारी या अधिकारी मौजूद नहीं था। पर्याप्त समय दिए जाने के बावजूद उनमें से कोई भी दफ्तर नहीं पहुंचा। ऐसे में तलाशी की कार्रवाई पूरी नहीं हो पाई और फिर दफ्तर को सील करने का फैसला लिया गया।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने दफ्तर सील करने के विषय पर कहा कि ईडी अपना काम कर रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस को बदनाम करने के लिए इतनी जल्दबाजी में यह सब किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने भाजपा के विरोधी दलों को समाप्त करने का आरोप लगाया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि तलाशी के दौरान खाता बही संदिग्ध लेनदेन की ओर इशारा करती हैं और तो और जांच एजेंसी को हवाला के जरिए लेनदेन के सबूत मिले हैं। जिसकी वजह से मामला और भी ज्यादा पेचीदा होता जा रहा है। इसी बीच कांग्रेस संसद से लेकर सड़क तक विरोध प्रदर्शन करती हुई दिखाई देगी।

पार्टी की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी और वायनाड सांसद राहुल गांधी के साथ पूछताछ के दौरान भी कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया था। उस वक्त इसे सत्याग्रह का नाम दिया गया था लेकिन अब ‘रण’ की बात की जा रही है। ऐसे में एआईसीसी कार्यालय, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के आवास को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। जिसको लेकर कांग्रेस नेताओं ने केंद्र सरकार को निशाना भी बनाया।

कांग्रेस ने दावा किया कि नरेंद्र मोदी सरकार के इशारे पर दिल्ली पुलिस ने उसके मुख्यालय, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के आवासों को घेर रखा है तथा उसके नेताओं के साथ आतंकवादियों जैसा सुलूक किया जा रहा है जो प्रतिशोध और धमकी की राजनीति है। जबकि पुलिस का कहना है कि ऐसी सूचना मिली थी कि कांग्रेस मुख्यालय पर प्रदर्शनकारी जमा हो सकते हैं, इसलिए ऐहतियातन यह कदम उठाया गया ताकि कोई अवांछित परिस्थिति न पैदा हो।

याचना नहीं, अब रण होगा

रामाधारी सिंह दिनकर की बहु चर्चित ‘रश्मिरथी’ की पंक्तियों के जरिए कांग्रेस ने ‘रण’ की बात कही है। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि आज जो हो रहा है, वह प्रतिशोध और धमकी की राजनीति है। परंतु एक कहावत है, विनाशकाले विपरीत बुद्धि। इस समय महंगाई, बेरोजगारी, जीएसटी का विनाशकाल है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार 2 हफ्ते तक संसद में महंगाई पर चर्चा से भागती रही।

अब 5 अगस्त को हमारे प्रदर्शन को रोकने के लिए गृहमंत्री और दिल्ली पुलिस आज से ही शुरुआत कर चुके हैं। जो धमकी देते हैं, जो प्रतिशोध की राजनीति करते हैं, जो भय का वातावरण फैलाते हैं, वही डरते हैं। डरने वाले हम नहीं हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि ईडी की कार्रवाई से विपक्षी पार्टी डर क्यों रही है। कांग्रेस पहले सत्याग्रह की बात कर रही थी और अब सत्याग्रह की जगह रण की बात कर रही है। संबित पात्रा ने कहा कि देश के कानून के साथ युद्ध संभव नहीं है। कानून किसी को नहीं छोड़ता है। देश का कानून तो सभी के लिए समान होता है।

संबित पात्रा ने कहा कि भ्रष्टाचार और रण दोनों नहीं हो सकता है। भ्रष्टाचार हुआ है तो पकड़े जाएंगे। भ्रष्टाचार हुआ है तो कानून के सामने पेश होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में कभी ऐसा हुआ है कि कोई चोरी करते हुए पकड़ा जाए और पुलिस आए तो वो बोले कि मैंने चोरी की है। कोई ये थोड़ी न बोलता है कि मैंने चोरी की है और कांग्रेस भी ऐसा ही कर रही है।

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x