नेतागीरी का मतलब फॉर्च्यूनर से किसी को कुचलना नहीं, लखीमपुर खीरी कांड के बाद बोले यूपी चीफ

लखनऊ। लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष की गिरफ्तारी के एक दिन बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को

नसीहत देते हुए कहा कि ‘‘हम राजनीति में लूटने के लिए नहीं हैं और न ही किसी को फार्च्यूनर से कुचलने के लिए आए हैं।’’ लखनऊ के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अल्पसंख्यक मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा, ‘‘हम राजनीति में लूटने के लिए नहीं आये हैं और न ही किसी को फार्च्यूनर से कुचलने के लिए आए हैं।’’

अगले वर्ष की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव में कार्यकर्ताओं को लक्ष्य के लिए प्रेरित करते हुए भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष सिंह ने कहा, ‘‘वोट आपके व्यवहार से मिलेगा, आप जिस मोहल्ले में रहते हैं, वहां दस लोग आपकी प्रशंसा करते हैं तो मेरा सीना चौड़ा हो जाएगा, ये नहीं कि जिस मोहल्ले में रहते हैं लोग आपकी शक्ल देखकर छिप जाएं। आपको देखकर जनता मुंह न फेरे ऐसा आचरण कीजिए।’’

सिंह का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर विपक्षी दल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) समेत कई दल सत्तारूढ़ भाजपा पर आक्रामक हैं और मंत्री को बर्खास्त करने की मांग के साथ जनता से विधानसभा चुनाव में सरकार को सत्ता से बाहर करने का आह्वान कर रहे हैं।

कांग्रेस महासचिव व उत्‍तर प्रदेश मामलों की प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने रविवार को वाराणसी की किसान न्याय रैली में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘हम डरने वाले लोग नहीं हैं, हम गांधी को मानने वाले कांग्रेस के लोग हैं, हम तब तक चुप नहीं बैठने वाले जब तक ‘हत्यारे’ केंद्रीय मंत्री की बर्खास्तगी नहीं होती है, आपको हमें मारना है मारिए, जेल में डालिए, लेकिन हम पीछे नहीं हटेंगे।’’ उधर, सहारनपुर की एक जनसभा में समाजवादी पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के खिलाफ हमलावर रुख अपनाते हुए कहा, ‘‘भाजपा ने किसानों को कुचला, साथ ही कानून को भी कुचला गया अब संविधान को भी कुचलने की तैयारी है।’’ यादव ने सरकार पर गृह राज्य मंत्री को बचाने का आरोप लगाया। वहीं, बसपा की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने रविवार को एक ट्वीट में कहा, ‘‘लखीमपुर खीरी जघन्य कांड में केंद्रीय मंत्री (अजय मिश्रा) के बेटे का नाम सुर्खियों में आना भाजपा सरकार की कार्यशैली पर अनेक सवाल खड़े करता है। ऐसे में भाजपा अपने मंत्री से खुद ही इस्तीफा ले तभी वहां पीड़ित किसानों को कुछ न्याय की उम्मीद हो सकती है। बसपा की यह मांग है।’’ स्वतंत्र देव सिंह के बयान के संदर्भ में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने पीटीआई- से कहा, ‘‘भाजपा का नेतृत्व सदैव पार्टी कार्यकर्ताओं को समाज में आदर्श पेश करने की प्रेरणा देता है।

आदर्श जीवन शैली जीने के लिए कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित किया जाता है। यही सीख हमारे प्रदेश अध्यक्ष जी ने कार्यकर्ताओं को दिया है।’’ गौरतलब है कि तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी की हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के मामले में आशीष मिश्रा और अन्य लोगों के खिलाफ हत्या समेत अन्‍य संबंधित धाराओं में तिकुनिया थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। घटना के बाद आशीष पर आरोप लगा कि वह उन वाहनों में से एक में सवार था जिसने गत रविवार को लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया में प्रदर्शन कर रहे चार किसानों को कुचल दिया था, जिसके बाद उसके खिलाफ मामला दर्ज कराया गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले में आशीष को शनिवार को करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया और उसे अदालत में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x