अब करें ऑनलाइन एफआईआर दर्ज

  • पुलिस महानिदेशक के आदेश पर स्कूल में लगेगी पुलिस पाठशाला। 
  • पुलिस का मानना कि बच्चे जागरूक होगें तो परिजन को समझा सकेगें यह नवीन तरीका। 
  • 25 सितम्बर तक जिले भर के स्कूलों में गोष्ठी कर उच्चाधिकारियों को भेजेगें फोटो। 

लखनऊ, 

ज्यादातर सब पीड़ितों की शिकायत रहती थी कि पुलिस,  प्रथम सूचना विवरण यानि FIR “First Information Report” नहीं लिखती है, क्या करें? तो अब खुशखबरी है कि एफआईआर अब ऑनलाइन की जा सकती है और पुलिस थाने के चक्कर भी नहीं काटने होगें…. 

अब आपको किसा दुर्घटना या किसी समस्या के लिए ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करानी है तो इसके लिए अब न कागज कलम की जरूरत है और न ही थाने का चक्कर लगाना पड़ेगा। घर बैठे अपने मोबाइल से प्रदेश के किसी थाने में एफआईआर दर्ज कराई जा सकती हैं। इसके लिए आपका मोबाइल ही आपका थाना बन जाएगा।

उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी कॉप एप (UP COP app) के माध्यम से आनलाइन एफआईआर (Online Fir) करने की सविधा उपलब्ध कराई हैं। आप वाहन चोरी, वाहन लूट, सामान्य चोरी, स्नैचिंग, नाबालिग बच्चों की गुमशुदगी, इनामी अपराधी, अज्ञात शव, लापता व्यक्ति और साइबर अपराध से जुड़े मामलों में यूपी पुलिस (UP Police) के यूपी कॉप मोबाइल एप (UP COP Mobile app) से अज्ञात के खिलाफ ई-एफआईआर ( E-Fir) दर्ज करा सकते हैं।

डीजीपी का आदेश मिलने के बाद शहरी व गांव क्षेत्र के स्कूलों में गोष्ठी आयोजित की जा रही है। इसमें छात्र छात्राओं को यूपीकॉप मोबाईलएप के बारे में दी जा रही है। – विनोद कुमार, एएसपी

सरकार द्वारा प्रदेश में पुलिस व्यवस्था और पुलिस की छवि सुधारने के उद्देश्य से नए साल पर लॉन्च यूपी कॉप मोबाइल एप लॉन्च किया गया था। आप भी यूपी कॉप मोबाइल एप के माध्यम से ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करना चाहते हैं। तो सबसे पहले आपको गूगल प्लेस्टोर से यूपी कॉप मोबाइल एप डाउनलोड करना होगा और उसके माध्यम से ऑनलाइन एफआईआर करने से पहले अपना मोबाइल नम्बर रजिस्टर्ड कराना होगा। उसके बाद आप आसानी से ऑनलाइन एफआईआर कर सकते हैं।

वहीं, पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सभी अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस महानिरीक्षक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर इस दिशा में जोरदार अपील की है कि इस ऑनलाइन एफआईआर की जानकारी को विस्तृत करने के लिए स्कूलों में पुलिस पाठशालाएँ आयोजित कर 14 साल तक के बच्चों को यह जानकारी मुहैया करायी जाये जिससे वह अपने पड़ोसियों आदि तक यह जानकारी पहुंचा सकेगें। 

 

 

ऐसे होगा यूपी कॉप मोबाइल एप डाउनलोड

1. सबसे पहले आप अपने मोबाइल में गूगल प्लेस्टोर ओपन करें।
2. उसके बाद आप यूपी कॉप मोबाइल एप को सर्च करके डाउनलोड कर इंस्टॉल करें।

यूपी कॉप एप पर ऐसे करें मोबाइल नम्बर रजिस्टर्ड

1. सबसे पहले आप अपने मोबाइल में यूपी कॉप एप ओपन करें।
2. इसके बाद आप रजिस्ट्रेशन पर क्लिक कर अपनी पूरी जानकारी भरकर GET OTP पर क्लिक करें।
3. इसके बाद आप OTP नम्बर डालना होगा जोकि आपके मोबाइल नम्बर पर मैसेज के माध्यम से आएगा।
4. इसके बाद आपका मोबाइल नम्बर रजिस्टर्ड हो जाएगा।

ऐसे करें ऑनलाइन एफआईआर

1. यूपी कॉप एप से ऑनलाइन एफआईआर करने के लिए आपको लॉग इन करना होगा।
2. यूपी कॉप एप पर लॉग इन करने के लिए आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर और पासवर्ड डालना होगा।
3. उसके बाद आपको उस भाषा का चयन करना होगा जिस भाषा में आप ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करना चाहते हैं।
4. भाषा का चयन करने के बाद आपको लॉग इन पर क्लिक करना होगा।
5. उसके बाद आप E-Fir पर क्लिक करके ऑनलाइन एफआईआर कर सकते हैं।

उदाहरणार्थ – इस तरह समझें… 

दिल्ली

चरण 1- दिल्ली पुलिस आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

चरण 2- होम पेज पर बहुत सी चीज़ें जैसे हेल्पलाइन नंबर, गुमशुदा रिपोर्ट, महिला सुरक्षा ऐप, पुलिस निकासी प्रमाणपत्र, कैरेक्टर सत्यापन रिपोर्ट दी गयी है। गुमशुदा वस्तु या दस्तावेजों के लिए दिल्ली पुलिस में ऑनलाइन एफआईआर पंजीकरण, ‘ खोया और पाया’ विकल्प पर जाना होगा।

चरण 3 – ‘ गुमशुदा रिपोर्ट’ के नीचे, चार विकल्प दिए गये हैं – 1. पुनः प्राप्त करें 2. पंजीकरण 3. गुमशुदा वस्तु खोजें 4. अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न। ‘पंजीकरण’ विकल्प का चयन करें।

चरण 4- दिल्ली पुलिस को ऑनलाइन एफआईआर पंजीकरण के लिए एक नया पृष्ठ खुल जाएगा। आपको रिक्त स्थान को अपने व्यक्तिगत विवरण के साथ-साथ अपने खोए गए वस्तु का विवरण भरना होगा। निम्नलिखित विकल्प होंगे-
शिकायतकर्ता का नाम- उस व्यक्ति का नाम भरें, जो ई-प्राथमिकी दर्ज करना चाहता है।
पिता / माता का नाम- शिकायतकर्ता के माता-पिता का नाम भरें।
शिकायतकर्ता का पता- जहां शिकायतकर्ता रहता है (आवश्यक पूरा पता)
शिकायतकर्ता का मोबाइल नंबर- शिकायतकर्ता का कामकाजी मोबाइल नंबर
शिकायतकर्ता का ईमेल आईडी- इसकी आवश्यकता होगी क्योंकि सत्यापन के लिए ई-मेल के जरिए आपकी ई-प्राथमिकी की प्रति भेजी जाएगी।
दिल्ली में घटना का स्थान- दिल्ली में वस्तु कहां खोयी है, इसका विशेष विवरण भरें।
घटना की तारीख- अगर आपको तारीख नहीं पता है, तो आप इसे एक अनुमान के साथ भर दें लेकिन महीना और वर्ष भरना अनिवार्य है।
घटना का समय- अगर आपको घटना का समय याद आता है तो इसे भरें हालांकि, यह अनिवार्य नहीं है
खोया वस्तु – आप खो चुकी वस्तु का नाम भरें।
विवरण – खोयी वस्तु का मूल विवरण।
एड – एड पर क्लिक करके विवरण संलग्न हो जाएगा।
कोई अन्य विवरण- कोई अन्य विशिष्ट विवरण जिसे आप स्पष्ट करना चाहते हैं तो उसे इस रिक्त स्थान पर भरें।

चरण 5- उपरोक्त विवरणों के बाद दिए गए कोड को भरें।

चरण 6 विवरण पुनः जांचें और ‘सबमिट करें’ बटन पर क्लिक करें।

चरण 7- अपने ई-मेल आईडी की जांच करें ताकि आपको अपने इनबॉक्स में पीडीएफ फॉर्म में ई-एफआईआर की एक प्रति प्राप्त हो। उस रिपोर्ट को प्रिंट कर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *