अरुणाचल, देश की सुरक्षा का गेटवे, इसे देंगे और मजबूती- पीएम मोदी

अरूणाचल से – 

अरुणाचल के ईटानगर में एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज अरुणाचल प्रदेश में 4 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करने का अवसर मिला। कनेक्टिविटी तो सुधरेगी ही राज्य के पावर सेक्टर को भी मजबूती मिलेगी। स्वास्थ्य सेवाओं की सेहत बेहतर होगी और अरुणाचल की संस्कृति को भी बढ़ावा मिलेगा। अरुणाचल प्रदेश उगते सूरज की भूमि है। यह देश का विश्वास है।

पीएम मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार देश के हर क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, खान-पान, रहन-सहन को संरक्षित करने, उनका और विकास करने के लिए प्रतिबद्ध है। यही कारण है कि हमारी सरकार ने अरुणाचल की संस्कृति को ताकत देने के लिए यहां के अपने 24 घंटे के टीवी चैनल अरुण प्रभा को लॉन्च किया गया है। सबका साथ, सबका विकास के इस मंत्र पर चलते हुए, बीते साढ़े 4 वर्षों में अरुणाचल और उत्तर पूर्व के विकास के लिएना तो फंड की कमी आने दी गई और ना ही इच्छाशक्ति की।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने अरुणाचल प्रदेश के लिए 44,000 करोड़ का फंड जारी किया है। यह पिछली सरकारों द्वारा दिए गए फंड से दोगुना है। हमारी सरकार विकास की पंचधारा: बच्चों की पढ़ाई, युवा को कमाई, बुजुर्गों को दवाई, किसान को सिंचाई और जन-जन की सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है। पिछले 2 सालों में करीब 1000 गांव सड़कों से जुड़े हैं। ट्रांस अरुणाचल हाइवे का काम भी प्रगति पर है। नॉर्थ ईस्ट की सभी राजधानियों को जोड़ने के प्रयास में, ईटानगर को रेलवे से भी जोड़ा गया है।

उन्‍होंने कहा, ‘मैं बार-बार कहता आया हूं कि न्यू इंडिया तभी अपनी पूरी शक्ति से विकसित हो पाएगा, जब पूर्वी भारत, नॉर्थ ईस्ट का तेज़ गति से विकास होगा। ये विकास संसाधनों का भी है और संस्कृति का भी। विकास की इसी कड़ी में आज अरुणाचल में एक साथ दो एयरपोर्ट का उद्घाटन और शिलान्यास हो रहा है। अरुणाचल प्रदेश के लिए तो ये और भी अहम अवसर है, क्योंकि आज़ादी के इतने वर्षों तक यहां एक भी ऐसा एयरपोर्ट नहीं था जहां नियमित रूप से बड़े यात्री जहाज़ उतर पाएं। पिछली सरकारों ने दशकों से इस राज्य की उपेक्षा की है लेकिन इसे बदलने के लिए हम यहां हैं। न्यू इंडिया तभी बन सकता है जब नॉर्थ ईस्ट का भी अच्छे तरह से विकास हो मैं अरुणाचल प्रदेश को सौभाग्य योजना के तहत करीब हर परिवार तक बिजली पहुंचाने के लिए बहुत बधाई देता हूं। आज अरुणाचल ने जो हासिल किया है वो बहुत ही जल्द पूरे देश में होने वाला है। सौभाग्य योजना के तहत देश में करीब 2.5 करोड़ परिवारों के घरों से अंधेरे को दूर किया जा चुका है।’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मोदी पूर्वोत्तर के दो दिवसीय दौरे पर हैं। वह शुक्रवार शाम शहर पहुंचने और हवाई अड्डे से राजभवन जाने के दौरान ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने काले झंडे दिखाए और नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ नारेबाजी की। आसू सदस्यों ने गुवाहाटी विश्वविद्यालय के गेट पर प्रधानमंत्री को उस समय काले झंडे दिखाए जब वह लोकप्रिय गोपीनाथ बारदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से शाम करीब साढ़े छह बजे राजभवन की ओर जा रहे थे। आसू सदस्यों के एक अन्य समूह ने कुछ मिनट के बाद तेजी से जा रहे मोदी के काफिले को काले झंडे दिखाये। इस दौरान ‘मोदी वापस जाओ’, ‘नागरिकता संशोधन विधेयक वापस लो’ जैसे नारे लगाए गये।

त्रिपुरा के तीन माकपा सांसदों ने भी शनिवार को प्रधानमंत्री के राज्य दौरे का बहिष्कार करने की घोषणा की है। दो दिनों के पूर्वोत्तर दौरे के क्रम में शुक्रवार शाम प्रधानमंत्री गुवाहाटी पहुंच गए। नागरिकता (संशोधन) विधेयक के विरोध का नेतृत्व कर रहे कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) के प्रमुख अखिल गोगोई ने कहा कि शनिवार को पूरे राज्य में काला दिवस मनाया जाएगा। 70 संगठनों के सदस्य उन्हें काला झंडा दिखाएंगे।

गोगोई ने कहा, ‘यह विधेयक बांग्लादेश से आए हिंदू बंगालियों को नागरिकता देने और 2019 में उनका वोट हासिल करने के लिए लाया गया है।’ केएमएसएस नेता ने कहा कि देश में भाजपा की स्थिति अच्छी नहीं है। उसकी रणनीति पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर से अधिकतम सीटें प्राप्त करने की है। इसी बात को ध्यान में रख भाजपा ने नागरिकता विधेयक का रास्ता अपनाया है।

लोकसभा से आठ जनवरी को नागरिकता (संशोधन) विधेयक पारित होने के बाद मोदी पहली बार असम पहुंचे हैं। प्रधानमंत्री शनिवार को विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए अरुणाचल प्रदेश रवाना होंगे।

शनिवार दोपहर गुवाहाटी लौटने के बाद प्रधानमंत्री उत्तरी गुवाहाटी के अमीनगांव में उत्तर पूर्व गैस ग्रिड और कामरूप, काचार, हैलाकांडी और करीमगंज जिले के सिटी गैस वितरण नेटवर्क का शिलान्यास करेंगे। इसके अलावा वह तिनसुकिया में होलोंग माडुलर गैस प्रोसेसिंग प्लांट का उद्घाटन भी करेंगे। प्रधानमंत्री नुमालीगढ़ में बायोरिफाइनरी और 729 किलोमीटर लंबी गुवाहाटी-बरौनी गैस पाइपलाइन की आधारशिला भी रखेंगे।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x