वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस 2019 के लिए अनूठे कार्यक्रमों की श्रृंखला तैयार-


वाराणसी, 20जनवरी 2019, सच की दस्तक न्यूज़।


भारत की आध्यात्मिक राजधानी – वाराणसी या काशी, अगले सप्ताह से शुरू होने वाले प्रवासी भारतीय दिवस 2019 में भाग लेने वाले 400 से अधिक अप्रवासी भारतीय मेहमानों के स्वागत के लिए तैयार है।

काशी के लोग काशी आतिथ्य योजना के तहत अपने घरों में एक हजार पांच सौ से अधिक अप्रवासी भारतीय मेहमानों के ठहरने और देखभाल की मेजबानी करेंगे। इन मेहमानों को अतिथि देवो भव ’का अनुभव मिलेगा। मेहमानों को घर का पकाया भोजन मिलेगा और इसका आनन्द उठाने के लिए सर्वश्रेष्ठ घरेलू परिवेश मिलेगा। इसके अलावा, वे स्थानीय लोगों के साथ पूरा दिन व्यतीत करने और पारम्परिक बनारसी दिनचर्या के भी साक्षी होंगे।

21 जनवरी को, युवा प्रवासी भारतीय दिवस के उद्घाटन पर, लगभग 700 अतिथि बनारस हिंदू विश्वविद्यालय बीएचयू के स्वतंत्र भवन जाएंगे, जहाँ कई अन्य कार्यक्रमों के साथ वे “प्रवासी भारतीय” की थीम पर आधारित महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में एक कला प्रदर्शनी का भी अवलोकन करेंगे। इसके अलावा, वे बीएचयू के छात्रों के साथ संवाद भी करेंगे।

इस वृहद कार्यक्रम को अधिक से अधिक लोकोन्मुखी और समावेशी बनाने के लिए, प्रवासी भारतीय दिवस 2019 के उपलक्ष्य में कई खेलों और सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है।

17 जनवरी से, कबड्डी, खो-खो, कुश्ती, मुगदल जैसे पारंपरिक खेलों में क्रमशः 51000, 25000, 10000 रूपए के नकद पुरस्कारों के साथ प्रतियोगिता आयोजित की जा रही। ये खेल प्रतियोगिताएं सिगरा स्टेडियम और गंगा के अस्सी घाट पर आयोजित की जा रही है।

इसके अलावा, लगभग 5000 प्रतिभागियों के साथ एक 3 किमी वॉकथॉन, महिलाओं के बीच जुम्बा डांस, मार्शल आर्ट प्रतियोगिता, स्वास्थ्य वार्ताएं स्थानीय लोगों को उन्हें प्रवासी भारतीय दिवस 2019 से जोड़ने के अन्य आकर्षण हैं।

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय,वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस 2019 के अवसर पर एक तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी आयोजित की जाएगी।

          ‘प्रवासी भारतीय’ की थीम पर एक और दिलचस्प कार्यक्रम- सैंड आर्ट प्रतियोगिता का आयोजन भी इसके साथ-साथ पटना, भुवनेश्वर, मुंबई, चेन्नई और वाराणसी सहित विभिन्न शहरों में किया जा रहा है।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x