सर्वधर्म पूजाभाव से राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल

सीमा पर तनाव के बीच आज भारतीय वायुसेना को नई ताकत मिलने वाली है। फ्रांस से खरीदा गया बहुप्रतिक्षीत अत्याधुनिक लड़ाकू विमान राफेल आखिरकार आज औपचारिक रूप से वायु सेना के लड़ाकू विमानों के बेड़े में शामिल होगा। अंबाला एयरबेस पर आज सुबह दस बजे से आयोजित भव्य कार्यक्रम में एयरफोर्स को 5 राफेल सौंप दिए जाएंगे। इस मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ फ्रांस की रक्षामंत्री भी समारोह में शिरकत कर रही हैं। हरियाणा के अंबाला स्थित वायु सेना स्टेशन में एक शानदार समारोह में यह विमान वायु सेना के गोल्डन एरो स्क्वाड्रन का हिस्सा बनेगा। अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों की कमी का सामना कर रही भारतीय वायु सेना के लिए इस दिन को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि क्षेत्र में शक्ति संतुलन को बदलने की ताकत रखने वाला राफेल इसी दिन उसके लड़ाकू विमानों के बेड़े की शान बनेगा।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और समकक्ष फ्लोरेंस पार्ली अंबााला एयरफोर्स स्टेशन पहुंचीं। कुछ देर में शुरू होगा राफेल को वायुसेना के बेड़े में शामिल करने का समारोह।

-राफेल में वायुसेना में एंट्री से पहले मंच सजकर तैयार है, जहां राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षा मंत्री समेत कई दिग्गज मौजूद रहेंगे।

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली अंबाला के लिए रवाना हो चुके हैं। आज अंबाला में पांच राफेल विमान वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे।

वायु सेना के लिए तुरूप का इक्का माने जाने वाले पांच राफेल विमानों की पहली खेप 27 जुलाई को ही भारत आयी थी। वायु सेना ने 59 हजार करोड़ रुपये की लागत से फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद का सौदा किया है। चार और राफेल विमानों की अगली खेप के अक्टूबर में आने की संभावना है।

और कौन-कौन होंगे मौजूद

इस समारोह में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया, रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार, डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी, रक्षा मंत्रालय और सशस्त्र बलों के कई वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहेंगे।

अंबाला वायु सेना स्टेशन पर राफेल विमान का औपचारिक अनावरण पारंपरिक रूप से आयोजित ‘सर्वधर्म पूजा’ के साथ किया जाएगा और फिर फ्लाई पास्ट भी होगा। इस मौके पर राफेल, स्वेदशी विमान तेजस और सारंग एयरोबेटिक टीम अपनी करतबाजी दिखायेगी। बाद में राफेल विमान को पारंपरिक तरीके से वाटर कैनन की सलामी दी जाएगी। समारोह का समापन वायुसेना के 17वें स्क्वाड्रन में राफेल विमान को विधिवत शामिल किए जाने के साथ होगा।

फ्रांस से कौन-कौन

इस अवसर पर फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल का प्रतिनिधित्व भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनिन, वायु सेना प्रमुख एरिक ऑटेलेट, फ्रांसीसी वायु सेना के उप प्रमुख और अन्य वरिष्ठ अधिकारी करेंगे। राफेल विमान बनाने वाली डसॉल्ट एविएशन के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एरिक ट्रैपीयर और एमबीडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एरिक बेरांगर समेत फ्रांसीसी रक्षा उद्योग के कई अधिकारियों का एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल भी वहां मौजूद रहेगा। आयोजन के बाद भारतीय और फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल की द्विपक्षीय बैठक होगी।

2021 के आखिर तक आएंगे सभी राफेल विमान

भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमानों का सौदा किया है. फ्रांस ने 2021 तक सारे राफेल देने की बात कही है. अगले 5 राफेल विमान नवंबर तक भारत आ सकते हैं. भारतीय एयरफोर्स में राफेल विमानों को गोल्डन एरो कही जानेवाली 17 स्कॉड्रन (rafale golden arrows) में जगह मिलेगी. इस स्कॉड्रन का अपना गौरवमय इतिहास रहा है, जिसने पाकिस्तान के साथ हुए दो युद्धों में उसे धूल चटवाई है. वैसे इस स्कॉड्रन को रिटायर कर दिया गया था लेकिन राफेल के लिए इसे पुनर्जीवित किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *