रेल की सुरक्षा व संरक्षा सबकी नैतिक जिम्मेदारी

चन्दौली से जितेंद्र मिश्रा की रिपोर्ट
राष्ट्र की धरोहर भारतीय रेल की सुरक्षा व संरक्षा करना हर नागरिक का दायित्व ही नही बल्की जिम्मेदारी बनती है। उक्त विचार सोमवार को सामाजिक संस्था हंसू राय वेलफेयर ट्रस्ट द्वारा आयोजित रेल की सुरक्षा और संरक्षा में नागरिकों की भूमिका नामक विषयक गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक आजमगढ़ अमरनाथ राय ने बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किया। इस दौरान कहा कि देश में सबसे बड़ा आवागमन की व्यवस्था रेल के जिम्मे है।
जिसे वर्तमान परिवेश में लोग राष्ट्रीय सम्पत्ति के सुरक्षा और उसके।संरक्षा के प्रति नकारात्मक बने हुए हैं। जो बहुत ही दुःखद है। श्री राय ने कहा कि यदि देश का हर नागरिक राष्ट्रीय सम्पत्ति की सुरक्षा करना अपनी नैतिक जिम्मेदारी मान ले तो देश का चहुंमुखी विकास तय है। समय-समय राष्ट्र के सुरक्षा के लिए जो जनजागरण का कार्य संस्था द्वारा किया जाता है वह काबिले तारीफ है। भारत के राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित पूर्व सुबेदार मेजर एचआर राय ने कहा कि रेल में सफर के दौरान यात्री को गन्दगी नहीं करनी चाहिए। बल्कि जो लोग गंदगी फैला रहे हैं उन्हें समझाकर स्वच्छता के लिए जागरूक करना चाहिए। निःशुल्क विधिक परमार्श समिति केराष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेन्द्रकांत मिश्रा एडवोकेट ने गोष्ठी में रेल नियमावली के बने कानूनों पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डाला। गोष्ठी में उपस्थित लोगों ने रेल को स्वच्छ रखने और उसकी सुरक्षा के लिए शपथ लिया।
इस मौके पर गीता सिंह, किरन सिंह, मीरा गुप्ता, तेजबली सिंह, रामपूजन राजभर, महेन्द्र प्रताप गोंडसे, रमेश कुमार, बाबुजान, प्रवीण कुमार, आरबी राम, ममता राय, विजय कुमार गुप्ता, राकेश गुप्ता, कैलाश प्रसाद सहित अन्य रहे। कार्यक्रम का संचालन श्रवण कुमार ने किया।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x