नियमित टीकाकरण में शामिल होगी निमोनिया की वैक्सीन

सच की दस्तक डेस्क चन्दौली

जनपद में नवजातों को अब निमोनिया से होने वाले जान के खतरे से नहीं जूझना पड़ेगा। बच्चों को निमोनिया से बचाने के लिए जनपद में यह टीका मुफ्त लगाया जाएगा। न्यूमोकोकल बैक्टीरिया से होने वाले निमोनिया और अन्य बीमारियों से बचाव के लिए पूरी तरह सुरक्षित व असरदार इस टीके को जनपद में अगले महीने आठ अगस्त को लांच किया जाएगा। यह जानकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ एनपी चौधरी ने दी। उन्होने बताया कि प्रदेश के 19 जिलों में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के तहत पीसीवी वैक्सीन पहले से दी जा रही है जबकि चंदौली सहित अन्य 56 जिलों में इसकी शुरुआत की जाएगी। पीसीवी वैक्सीन पर जल्द ही वर्चुअल कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा जिसमें राज्य स्तरीय प्रशिक्षकों, यूनिसेफ़, यूएनडीपी एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों द्वारा टीके से सम्बंधित विशेष जानकारी व प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बताया कि देश में पाँच वर्ष तक की उम्र के लाखों बच्चे निमोनिया की चपेट में आकर दम तोड़ देते हैं। इसलिए सरकार के नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में अब न्यूमोकोकल कन्जुगेट वैक्सीन (पीसीवी) को भी शामिल किया जा रहा है। यह टीका बच्चों को निमोनिया गंभीर बीमारी से बचाएगा। आगामी 8 अगस्त को जनपद में इसका विधिवत उद्घाटन होगा जिसमें बच्चों को पीसीवी वैक्सीन की पहली डोज़ दी जाएगी। जन्म से एक साल की उम्र तक के बच्चों को इस टीके के तीन डोज़ दिए जाने हैं। पहला टीका जन्म के छह सप्ताह पूरे होने पर लगता है और दूसरा टीका 14 सप्ताह पर लगता है। नौ महीने पर इसका बूस्टर डोज़ लगता है। इस टीके के बाद निमोनिया से होने वाली शिशु मृत्यु दर में निश्चित तौर पर कमी आएगी।

निमोनिया के लक्षण

खांसी आना, कफ या बलगम आना, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, ठंड से कंपकपी, गहरी सांस लेते समय या खांसते समय सीने में दर्द, थकान और कमजोरी महसूस होना, जी मिचलाना और उल्टी होना, दस्त लगना, पसीना आना, सिरदर्द होना, मांसपेशियों में दर्द होना।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x