कोविड-19 विशेष सर्विलान्स अभियान पहुंचा चन्दौली जनपद के गाँव की गलियों में

सच की दस्तक डेस्क चन्दौली
देश और देशवासी एक ऐसे दौर से गुजर रहे हैं। इस संकट के गुजरते वक़्त मे सभी को एक जुटता के साथ सरकार द्वारा दिये गये निर्देशों का पालन करते हुये अन्य लोगों के भी स्वास्थ्य का ख्याल रखना होगा। बात की जाए जनपद चंदौली की तो जनपद स्वास्थ्य की योजनाएं एवं जागरूकता को लेकर हमेशा से टॉप पर रहा है। इसी ज़ज्बे के साथ जनपद के हर सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रो पर फ्रंट लाइन वर्कर्स की टीम पूरी मुस्तैदी के साथ गाँव के हर घर की जांच मे रात दिन लगी है।
कोविड-19 विशेष सर्विलान्स अभियान के तहत फ्रंट लाइन वर्कर्स एएनएम, आशा, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ता गाँव की आशा की किरण बनी हुई हैं।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र धानापुर के प्रभारी चिकित्साधीक्षक डॉ जेपी गुप्ता ने बताया कि सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स ग्रामीण इलाकों में घर-घर जाकर प्रत्येक सदस्यों की थर्मल स्क्रीनिंग एवं पल्सओक्सीमीटर साथ ही अन्य बीमारियो की जांच भी कर रहे हैं। उन्होने कहा कि माइक्रोप्लान के तहत आशा, आँगनबाड़ी और एएनएम के द्वारा बाहर से आये प्रवासी मजदूरों का नाम व पता का पूर्ण विवरण संग्रहीत किया जा रहा है। स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ ही उन्हें 21 दिनों का होम कोरेंटाइन का निर्देश भी दिया जा रहा है। साथ ही मास्क व सेनिटाइजर का प्रयोग करने सर्दी, ख़ासी, जुकाम, बुखार होने पर तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर जांच कराने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही डायबिटीज़, मधुमेह, टीबी, दमा, ह्रदय संबंधित अन्य किसी भी प्रकार से समन्धित बीमारियो की भी जांच कर उनकी जानकारी एकत्रित कि जा रही है।
डॉ जेपी गुप्ता ने बताया कि धानापुर की जनसंख्या 2.21 लाख है। 59 टीम गठित की गई है जिसमें 118 आशा, 10 आँगनबाड़ी, 17 सुपरवाइज़र, 49 शिक्षामित्र और 3 एएनएम है। 5 जुलाई से प्रारम्भ हुये सर्विलान्स अभियान में अभी तक 1.85 लाख लोगों का सर्वे जांच की जा चुकी है। सर्वे में प्रवासी मजदूरों पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है।
आशा कार्यकर्ता संगीता ने बताया कि हम सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ता हर घर में कोविड-19 के लक्षणों के प्रति जागरूक कर रहे हैं जिससे वह अपना और दूसरों का ध्यान रख सकें । ऐसे लक्षण दिखते ही तुरंत नज़दीकी स्वास्थ्य केंद्र जाने की सलाह दी जा रही है। इसके साथ ही घर की साफ़-सफाई, मास्क/रुमाल/गमछा लगाना, 20 सेकेंड तक बार हाथ धोएँ, दो गज की दूरी बनाकर रखना आदि पर पर विशेष ध्यान देने पर ज़ोर दिया जा रहा है।

जांच के दौरान कुछ दिन पहले मध्यप्रदेश रीवा से आए शमशेर यादव ने बताया कि उसी दिन आशा दीदी आई और स्क्रीनिंग की गई। हम बिल्कुल स्वस्थ थे। हमें 21 दिनों का होम कोरेंटाइन के लिए कहा गया।
वही दूसरी तरफ़ सैदपुर से आए शशिनाथ ने कहा कि आशा दीदी आई और हमारा आधार नम्बर लिया। थर्मल स्क्रीनिंग की गई। कमला पति त्रिपाठी जिला संयुक्त चिकित्सालय भी जाने को कहा गया और वहाँ जाँच की गई। अभी वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं। लेकिन हमें 21 दिनों का होम कोरेंटाइन के लिए कहा गया।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x