लिफ्ट देने के बहाने महिला ​के साथ किया गैंगरेप… हत्या कर शव कुएं में फेंका

  • राजस्थान के दौसा जिले का मामला
  • पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार
  • सतीश पूनियां बोले- बहु-बेटियों को नहीं बचा पा रहे हैं अशोक गहलोत
  • ग्रामीण और परिजन कर रहे हैं प्रदर्शन, शव लेने से भी इनकार कर दिया

राजस्थान के दौसा जिले (Rajasthan dausa) के एक गांव में दो आरोपियों ने 35 वर्षीय विवाहित महिला के साथ कथित तौर पर गैंगरेप (Gang rape) किया. इसके बाद आरोपियों ने महिला की हत्या (Murder) कर दी. हत्या कर शव कुएं में फेंक दिया था. महिला जब घर नहीं पहुंची तो उसकी गुमशुदगी का केस दर्ज कराया गया. इसके बाद पुलिस ने महिला का शव बरामद कर लिया. मामले की जांच की जा रही है.

एजेंसी के अनुसार, पुलिस ने बताया कि महिला का शव सोमवार को जयपुर जिले के बस्सी थाना क्षेत्र के एक कुएं में मिला था. पुलिस ने कहा कि महिला से गैंगरेप व हत्या के मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार कर लिया गया है. महिला रविवार की सुबह जयपुर से अपने माता-पिता के घर दौसा जाने के लिए बस से निकली थी. दौसा के पुलिस अधीक्षक राजकुमार गुप्ता ने कहा कि वह दौसा में अपने गांव के बस स्टैंड पर पहुंची और अपने माता-पिता के घर की तरफ जा रही थी. उसी दौरान आरोपियों ने उसे अपने वाहन से लिफ्ट देने के लिए कहा.

एसपी ने बताया कि लिफ्ट देने के बहाने से आरोपी महिला को गांव ले जाने की बजाय वन क्षेत्र में ले गए और उसके साथ गैंगरेप किया. गैंगरेप के बाद आरोपियों ने महिला की हत्या कर दी और उसके शव को एक कुएं में फेंक दिया. इस बीच जब पीड़िता घर नहीं पहुंची तो रविवार शाम उसके माता-पिता ने दौसा के रामगढ़ पचवारा थाने में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई. महिला का शव सोमवार तड़के पुलिस ने बरामद कर लिया. एसपी ने कहा कि कालूराम मीणा नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं. प्राथमिक जांच से पता चलता है कि महिला आरोपी को नहीं जानती थी. शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिवार के सदस्यों को सौंप दिया गया।

गैंगरेप और हत्या के मामले पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर दिन महिलाओं पर अत्याचार के मामले सामने आ रहे हैं। बहन बेटियों के साथ आए दिन दरिंदगी हो रही है। आखिर कैसे राज्य के मुखिया को चैन से नींद आ जाती है? अशोक गहलोत की ऐसी क्या मजबूरी है कि वह कानून का राज स्थापित नहीं कर पा रहे हैं? कांग्रेस के शासन में कोई भी सुरक्षित नहीं है। यहां तक कि सरकारी कर्मचारियों को भी प्रताड़ित किया जा रहा है।

विस्तार से-लिफ्ट देने के बहाने बनाया शिकार
23 अप्रैल को जयपुर के जगतपुरा में रहने वाली एक महिला दौसा के गोपालपुरा गांव में अपने पीहर के लिए रवाना हुई थी। महिला बस्सी तक अपने परिचित के साथ मोटरसाइकिल पर आई थी। इसके बाद महिला बस में बैठ कर सोनड बस स्टैंड पर पहुंची लेकिन बस स्टैंड से महिला के पीहर की दूरी 7 किलोमीटर थी और आवागमन के साधन भी नहीं है। ऐसे में वहां सड़क किनारे खड़े एक कार चालक ने महिला व वहां मौजूद एक बच्चे को लिफ्ट दी। बच्चा तो कुछ दूरी पर ही अपने गांव में उतर गया लेकिन महिला का गांव दूसरा था। जब कार में महिला अकेली थी तो बदमाशों ने इसका फायदा उठाया और उसके साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया।

CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

जब महिला घर पर नहीं पहुंची तो परिजनों ने 24 अप्रैल को रामगढ़ पचवारा थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज भी हाथ लगा। इसमें दिखाई दे रही कार के आधार पर पुलिस ने जांच की तो एक संदिग्ध गिरफ्त में आया। पुलिस ने जब गहन पूछताछ की तो पूरा मामला खुल गया। इसके बाद पुलिस ने 4 संदिग्धों को हिरासत में लिया है, जिनसे पूछताछ जारी है। संदिग्धों ने बताया कि बस्ती थाना क्षेत्र के एक गांव में महिला को कुएं में फेंका गया है। बीती रात पुलिस संदिग्ध आरोपी को लेकर मौके पर पहुंची। तुंगा और बस्सी थाना पुलिस के सहयोग से महिला के शव को बाहर निकाला और सोमवार सुबह जिला अस्पताल पहुंचाया। मृतका का शव जला हुआ नजर आ रहा था।हालांकि, डॉक्टर्स का मानना है कि तेज गर्मी और कुँए के अंदर शव होने के कारण संभवतया यह काला नजर आ रहा है। शव को जलाया गया है या नहीं, इसकी जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सामने आ सकेगी। दौसा जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम की प्रक्रिया को पूरा किया गया।

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x