कवि चौपाल मनीषी सम्मान से सम्मानित हुए रचनाकार ‘भुवन बिष्ट’

रानीखेत। 

विकासखंड ताड़ीखेत के मौना निवासी रचनाकार भुवन बिष्ट को राष्ट्रीय कवि चौपाल दौसा राजस्थान द्वारा कवि चौपाल मनीषी सम्मान 2019 से सम्मानित किया गया है। तथा राष्ट्रीय कवि चौपाल एंव ई पत्रिका स्टार हिंदी ब्लाग द्वारा स्टार हिंदी साहित्यकार सम्मान 2019 से भी सम्मानित किया गया है।

राष्ट्रीय कवि चौपाल दौसा के द्विवर्षीय साहित्यिक यात्रा पूर्ण होने पर रचनाकारों को सम्मानित किया गया। राष्ट्रीय कवि चौपाल दौसा के अध्यक्ष कृष्ण कुमार सैनी, राष्ट्रीय अध्यक्ष कासिम बीकानेरी,संरक्षक नेमचंद गहलोत द्वारा सम्मान पत्र प्रदान किया गया है। इसी क्रम में भुवन बिष्ट को भी निरंतर लेखन व साहित्यिक योगदान के लिए कवि चौपाल मनीषी सम्मान 2019 प्रदान किया गया है।

भुवन बिष्ट को इसी वर्ष साहित्य कलम सम्मान, मधुशाला साहित्य संस्था द्वारा साहित्य श्री सम्मान 2019, कविता बहार साहित्य सम्मान तथा अर्णव कलश ऐसोसिएशन राष्ट्रीय साहित्य मिशन द्वारा चौपाई शतकवीर सम्मान 2019 व भावो के मोती साहित्य समूह द्वारा श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान, नवयौवन साहित्य कलम सम्मान 2019 व भारत विभूति सम्मान 2019 भी प्रदान किये गये हैं। रचनाकार भुवन बिष्ट को इससे पूर्व साहित्य परिषद द्वारा साहित्य रत्न सम्मान, सशक्त लेखनी सम्मान 2018, बृजलोक संस्था द्वारा साहित्य साधक सम्मान 2018, फणीश्वर नाथ रेणु आंचलिक भाषा सम्मान 2018,आंचलिक साहित्य गौरव सम्मान 2018, साहित्य प्रतिभा सम्मान 2018, व आंचलिक भाषा साहित्य सेतु सम्मान,साहित्य हिंद वीर सम्मान 2018, काव्य रंगोली मातृत्व ममता सम्मान 2018, वागेश्वरी पुंज अलंकरण सम्मान 2018, अर्णव कलश ऐसोशिएशन कलम की सुगंध द्वारा श्रेष्ठ दोहा सृजन कलम की सुगंध सम्मान 2018, अभिनव काव्य कनक सम्मान, हिन्दी काव्य श्री सम्मान 2018, आंचलिक भाषा सेतु सम्मान 2018, आंचलिक भाषा साहित्य प्रतिभा सम्मान 2018 से भी सम्मानित किया जा चुका है।

भुवन बिष्ट के अनेक साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं सहित हिन्दी कविता संग्रह जीवन एक संघर्ष व कुमांऊनी बाल कविता संग्रह निकल रै प्रभातफेरी प्रकाशित हो चुकी हैं। भुवन बिष्ट अनेक प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं में भी निरन्तर लेख व कविताओं का लेखन हिन्दी व कुमांऊनी में कर रहे हैं।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x