भारतीय सेना की बड़ी कामयाबी / श्रीनगर में तीन आतंकी सरगना 72हूर के पास पहुंचाये

4 महीनों में 4 आतंकी संगठनों के सरगनाओं को जहन्नुम पहुंचाया-

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया- 4 महीने में लश्कर, जैश, हिजबुल और अंसार गजवत-उल हिंद के चीफ मारे गए
कठुआ में जिस पाकिस्तानी ड्रोन को गिराया गया था, उससे साउथ कश्मीर में एक्टिव जैश आतंकी अली के लिए भेजे गए थे हथियार

श्रीनगर.जूनीमार इलाके में रविवार सुबह से जारी ऑपरेशन खत्म हो गया है। सुरक्षा बलों ने एक मकान में छिपे तीन आतंकवादियों को मार गिराया है। इन आतंकियों की पहचान अभी नहीं बताई गई है। लेकिन, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि इन आतंकियों के सफाए के साथ ही इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि 4 प्रमुख आतंकी संगठनों के चीफ का 4 महीने में सफाया हो गया है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आईजी विजय कुमार के अनुसार कि 4 महीने में लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन और अंसार गजवत-उल हिंद के सरगना मारे गए।

आतंकवादियों से आत्मसमर्पण की अपील की पर नहीं माने

आईजी केे अनुसार कि श्रीनगर में जिन आतंकवादियों को मारा गया है, वे लोकल टेररिस्ट थे। ऑपरेशन के दौरान वे छिपने के लिए एक मकान में दाखिल हो गए थे। हमने यहां के कुछ सम्मानित लोगों से कहा कि वे आतंकवादियों को समर्पण करने के लिए कहें। लेकिन, आतंकवादियों ने उनकी बात मानने की बजाय ग्रेनेड से सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। इसके बाद उन्हें एनकाउंटर में मार गिराया गया।

स्थानीय के अनुसार कठुआ में जिस ड्रोन को बीएसएफ ने मार गिराया था, वह अली भाई के नाम पर था। वह जैश का आतंकवादी है और साउथ कश्मीर में एक्टिव है। इसमें एम4 राइफल थीं। हमने रिकॉर्ड खंगाले तो पुलवामा के एक आतंकवादी फुरकान का नाम आया है। हो सकता है कि यह एम4 राइफल फुरकान के लिए ही पाकिस्तानी ड्रोन से भेजी गई हों।

कुलगाम में भी एक जैश आतंकी के पास से एके-47 और एम4 कार्बाइन बरामद हुई है। यह भी देखा गया है कि जैश के आतंकी एम4 राइफल का इस्तेमाल करते हैं।

शनिवार को पाकिस्तानी ड्रोन को शूट किया गया

एक दिन पहले जम्मू-कश्मीर के कठुआ के पनसर इलाके में बीएसएफ ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को शूट कर दिया था। पाकिस्तान की तरफ से इस ड्रोन के जरिए आतंकियों को हथियार भेजे गए थे। इसमें एक अमेरिकी राइफल, दो मैग्जीन और दूसरे हथियार थे। ये कंसाइनमेंट किसी अली भाई के नाम पर आया था। ये भारतीय इलाके में 250 मीटर अंदर था। बीएसएफ के जवान ने 9 राउंड फायरिंग कर ड्रोन को गिरा दिया।

21 दिन में 12 एनकाउंटर

1 जून: नौशेरा सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश करते हुए 3 पाकिस्तानी आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया।

2 जून: पुलवामा के त्राल इलाके में 2 आतंकी मारे गए।

3 जून: पुलवामा के ही कंगन इलाके में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को ढेर कर दिया।

5 जून: राजौरी जिले के कालाकोट में एक आतंकवादी मारा गया।

7 जून: शोपियां के रेबन गांव में 5 आतंकी मारे गए।

8 जून: शोपियां के पिंजोरा इलाके में 4 आतंकी ढेर।

10 जून: शोपियां के सुगू इलाके में 5 आतंकियों का एनकाउंटर।

13 जून: कुलगाम के निपोरा इलाके में 2 आतंकी मारे गए।

16 जून: शोपियां के तुर्कवंगम गांव में 3 आतंकी ढेर।

18-19 जून: अवंतीपोरा और शोपियां में आठ आतंकवादी मारे गए।

21 जून: शोपियां में एक आतंकी ढेर।

आज जिस ड्रोन को बीएसएफ ने मार गिराया था, वह अली भाई के नाम पर था। वह जैश का आतंकवादी है और साउथ कश्मीर में एक्टिव है। इसमें एम4 राइफल थीं। हमने रिकॉर्ड खंगाले तो पुलवामा के एक आतंकवादी फुरकान का नाम आया है। हो सकता है कि यह एम4 राइफल फुरकान के लिए ही पाकिस्तानी ड्रोन से भेजी गई हों।

आतंकियों के सामान में मिली पाकिस्तानी दवाइयों की बोतल… जिससे साफ है कि यह पाकिस्तान के गीदड़ों थे।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x