कोका कोला, चट कर रहा हैं आपकी सेहत –

गर्मी से राहत के लिए आप जो कोल्ड ड्रिंक्स पीते हैं उसमें 5 जहरीले तत्त्व पाए गए हैं. एक अखबार के हवाले से छपी खबर में इस बात का खुलासा हुआ है. इसे स्वास्थ्य मंत्रालय के ड्रग्स टेक्निकल एडवाइजरी बोर्ड (डीटीएबी) ने अपनी जांच में किया है. DTAB ने पेप्सिको और कोका कोला ब्रांड के कई कोल्ड ड्रिंक्स की जांच की. इन सभी में एंटीमनी, लेड, क्रोमियम, कैडमियम और कम्पाउंड DEHP जैसे जहरीले तत्त्व मिले हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के ड्रग्स टेक्निकल एडवाइजरी बोर्ड (DTAB) द्वारा किए गए इस अध्ययन में पाया गया कि ये टॉक्सिन्स पांच कोल्ड ड्रिंक्स पेप्सी, कोका कोला, माउंटेन ड्यू, स्प्राइट और 7UP के पॉलिथीन टेरिफ्थेलैट बॉटल्स से निकाले गए. माउंटेन ड्यू और 7UP जहां पेप्सिको का है, वहीं स्प्राइट, कोका कोला कंपनी का प्रोडक्ट है.
डीटीएबी ने इस साल फरवरी-मार्च में परीक्षण के लिए इन कोल्ड्रिंक्स के नमूने एकत्रित किए थे. उसके दिशा-निर्देशों के तहत ही स्वास्थ्य मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले कोलकाता स्थित ऑल इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ हाइजीन एंड पब्लिक हेल्थ (AIIHPH) में परीक्षण किया गया था. एआईआईएचपीएच ने डीटीएबी को इस टेस्ट से जुड़े परिणाम सौंप दिए हैं.

फिलहाल स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट पर पेप्सीको के प्रवक्ता ने कहा कि हमें अभी तक इस जांच से जुड़ी कोई जानकारी नहीं मिली है. हमें यह भी नहीं पता कि जांच में कौन से तरीके का इस्तेमाल किया गया था. बिना रिपोर्ट और उसकी जांच का तरीका जाने, हम इस पर कुछ नहीं कह सकते. उन्होंने यह जरूर कहा कि हम अपने उत्पादों में फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्डस के नियमों का पूरी तरह से पालन करते हैं. हालांकि इस संबंध में कोका कोला ने कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), लेड और कैडमियम को शीर्ष दस हानिकारक रसायनों में रखता है. इसे लोगों की सेहत के लिए बड़ी समस्या माना गया है. खास कर बच्चों के लिए ये रसायन और लेड ज्यादा खतरनाक हैं. बच्चों के स्वास्थ्य पर इससे गहरा प्रभाव पड़ता है.
आपको बता दें कि इसी संस्थान ने पिछली साल एक रिपोर्ट और पेश की थी जिसमें दावा किया गया था कि जिन दवाओं को प्लास्टिक की बोतलों में पैक किया जाता है उनमें भी ये खतरनाक तत्व पाये गए थे. यानी बच्चों के आने वाली लगभग सभी दवाओं में इन खतरनाक तत्वों के मिल जाने का खतरा जताया गया था.

कोका-कोला कंपनी ने एक गैर-लाभकारी समूह के माध्यम से मोटापे पर चीन की सार्वजनिक स्वास्थ्य नीतियों को नजरअंदाज कर दिया है. यह गैर-लाभकारी समूह पोषण पर काम करने वाले वैज्ञानिकों के साथ मिलकर सरकार की नीति को कंपनी के कॉर्पोरेट हितों के पक्ष में प्रभावित करने का काम करती है.’

ऐसा कहना है हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर सुज़न ग्रीनहाल्ग का और ये चौंकाने वाले तथ्य पिछले महीने ब्रिटिश मेडिकल जर्नल और जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ पॉलिसी में प्रकाशित हुए हैं.

द इंटरनेशनल लाइफ साइंसेज इंस्टिट्यूट (आईएलएसआई) एक गैर-लाभकारी संगठन है. इसकी स्थापना कोका-कोला के एक पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष अलेक्स मलासपिना ने की थी और साल 2015 के अंत तक इसका नेतृत्व कोका-कोला के हेल्थ एंड साइंस के प्रमुख अधिकारी रोना एप्पलबॉम कर रही थीं.

अपने अध्ययन में ग्रीनहाल्ग ने पाया कि चीन की सार्वजनिक स्वास्थ्य नीतियों को प्रभावित करने के लिए कोका-कोला और अन्य कंपनियां आईएलएसआई की चीनी शाखा के माध्यम से काम करती थीं. इसमें कोका-कोला का यह संदेश भी शामिल था कि ‘डाइट नहीं, आपकी दिनचर्या मायने रखती है.’

ग्रीनहाल्ग ने इसे ऐसा दावा बताया जिसे सार्वजनिक स्वास्थ्य के कुछ शोधार्थियों ने स्वीकार कर लिया. विकसित देशों में महामारी की तरह बढ़ रहे मोटापे के लिए उच्च शुगर की खपत को दोषी ठहराने वाले कई अध्ययनों के सामने आने के बाद से कोका-कोला बचाव की मुद्रा में आ गई है.

दरअसल चीन, भारत, मेक्सिको और दक्षिण अफ्रीका जैसी उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं में भी मोटापा तेजी से बढ़ रहा है. हालांकि कंपनी की रणनीति इन अध्ययनों को खारिज करते हुए शारीरिक गतिविधियों को मोटापे को का रामबाण इलाज बताने की रही है.

अमेरिका में एक अन्य गैर-लाभकारी संगठन ग्लोबल एनर्जी बैलेंस नेटवर्क (जीईबीएन) ने 2015 में घोषणा की थी कि कोका-कोला के लिए काम करने के कारण उस पर सार्वजनिक स्वास्थ्य के पेशेवरों और मीडिया से काफी दबाव पड़ा जिसके बाद उसने अपना अनुबंध खत्म कर दिया.

आईएलएसआई की तरह जीईबीएन को भी कोका-कोला से अच्छी खासी फंडिंग मिली थी, जिसमें 15 लाख डॉलर केवल उनकी शुरुआत के लिए दिये गये थे. सॉफ्ट ड्रिंक और मोटापे के बीच के संबंध को खत्म करने के इन्हें सीधे एप्पलबॉम के साथ मिलकर काम करना होता है.

पहले तो कोका-कोला ने जीईबीएन के साथ अपने संबंधों से साफ इनकार कर दिया था. हालांकि, एसोसिएटेट प्रेस द्वारा हासिल किए गए ईमेल ने जीईबीएन और कोका-कोला के संबंधों का खुलासा कर दिया जिसके बाद 2015 में एप्पलबॉम को इस्तीफा देना पड़ा.

वहीं, आईएलएसआई का भारत से भी संबंध है, जिसमें उसने कोका-कोला के नियामक मामलों के निदेशक को अपना कोषाध्यक्ष नियुक्त किया हुआ है.

इसके बोर्ड ऑफ डायरेक्टर में नेस्ले और अजीनोमोटो के भी प्रतिनिधि शामिल हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसने भारत में शुगर और डाइट की भूमिका को कम बताने के लिए एक कांफ्रेंस की थी जहां उन्होंने शारीरिक गतिविधियों को बढ़ावा देने की बात की.

इसमें चिंता वाली बात यह है कि जिन भारतीय अधिकारियों पर इन जंक फूड कंपनियों के नियमन की जिम्मेदारी है, वे भी आईएलएसआई को चलाने में शामिल हैं.

आईएलएसआई बोर्ड के एक सदस्य देबब्रत कानूनगो भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) की कीटनाशक अपशिष्ट पर काम करने वाली वैज्ञानिक समिति में हैं.

बता दें कि एफएसएसएआई, भारत में खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने वाली और सुरक्षा मानकों को स्थापित करने वाली केंद्रीय एजेंसी है.

आईएसएलआई-इंडिया के एक अन्य बोर्ड सदस्य बी शशिकरण कार्यात्मक खाद्य पदार्थ, पोषक तत्व, आहार उत्पाद और अन्य समान उत्पाद मामलों पर काम करने वाली एफएसएसएआई की वैज्ञानिक समिति में हैं.

शशिकरण अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन, डीसी में स्थित आईएलएसआई ग्लोबल के बोर्ड ट्रस्टीज में भी शामिल हैं. उनका संबंध भारत सरकार की संस्था राष्ट्रीय पोषण संस्थान से बताया गया है जो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत काम करती है.

वह एकमात्र बोर्ड सदस्य हैं जो सरकार से जुड़े हुए हैं. चीन की तरह भारत में भी यह संगठन सार्वजनिक स्वास्थ्य के महत्वपूर्ण क्षेत्रों को नियंत्रित करने में सफल हो चुका है.

अप्रैल, 2018 में एफएसएसआई ने ‘खाद्य सुरक्षा एवं मानक (लेबलिंग एवं डिस्प्ले) नियमन’ का मसौदा जारी किया था. इसमें कहा गया था कि उच्च मात्रा वाले वसा, शुगर और साल्ट (जंक खाद्य पदार्थ) पैकेज्ड खाद्य पदार्थों पर कोका-कोला के कैन के रंग की तरह लाल लेबल होना चाहिए.

कुछ पक्षों द्वारा इस पर चिंता जताने के बाद मसौदा नियम को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया. इसके बाद एफएसएसआई ने शशिकरण की अध्यक्षता में लेबलिंग के मुद्दे को देखने के लिए एक बार फिर से एक तीन सदस्यों की समिति गठित की.

भारत की खाद्य सुरक्षा के संबंध में नियम बनाने वाले लोगों को आईएलएसआई में केंद्रीय भूमिका निभाने से रोका जाना चाहिए.

वास्तव में तो उन्हें ऐसी किसी भी कंपनी के लिए काम करने से रोकना चाहिए जो कि जंक फूड बनाती हैं और ग्राहकों को प्रभावित कर सकती हैं.

ऐसी दोहरी भूमिकाएं गंभीर तौर पर हितों के टकराव को पैदा करती हैं. इससे खाद्य सुरक्षा, पोषण और मोटापे को लेकर बनने वाली भारत की नीतियों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं.

कोका-कोला जैसी कंपनियां मुंहमांगी कीमत पर अपना काम निकाल लेती हैं. साल 2006 में भारत में पानी की समस्या के कारण कोका-कोला दबाव में आ गई थी लेकिन उसके बाद उसने एक लॉबिस्ट को काम सौंपा.

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उसने बाकी कामों के साथ यह सुनिश्चित किया कि हर सरकारी या निजी अध्ययन को चुनौती देने वाला एक दूसरा अध्ययन पेश किया जाए.

बी. शशिकरण और देबब्रत कानूनो को एफएसएसआई की उनकी सेवाओं से मुक्त किया जाना चाहिए. उनकी जगह स्वतंत्र विशेषज्ञों की नियुक्ति की जानी चाहिए जिनका कोई हितों का टकराव न हो खासकर निजी खाद्य कंपनियों और सार्वजनिक स्वास्थ्य के बीच. इसी क्रम में

भारतीय वैज्ञानिक नीरज नाईक ने कोकाकोला पीने से होने वाले सेहत संबंधी दिक्‍कतों और चौकांने वाली जानकारियों को रेखांकित किया है। उन्‍होंने बताया है कि कोकाकोला को पीने के साथ ही 10 मिनट के अंदर आप 10 टेबल स्‍पून इनटेक कर लेता है जो आपके लिए प्रस्‍तावित शक्‍कर के डेली इन्‍टेक से सौ प्रतिशत तक ज्‍यादा है। अगर आप सामान्‍य रूप से इतनी शक्‍कर पीयें तो आपको वोमिटिंग तक हो सकती है पर इसमें मिला फॉस्‍फोरिक एसिड इसे आपको स्‍वाद का अहसास ही नहीं होने देता।  

बीस मिनट में बढ़ जाता है ब्‍लड शुगर का स्‍तर – 

कोकाकोला पीने के 20 मिनट के अंदर आपके शरीर का ब्‍लड शुगर लेबल खतरनाक हद तक बढ़ ज्‍यादा है शरीर में इंसुलिन ब्रस्‍ट होता है। इस शक्‍कर की इतनी अधिक मात्रा से बहुत ज्‍यादा फैट बनता है। जो और भी बुरा है। 

40 मिनट में रक्‍तचाप बढ़ जाता है-

इसके बाद 40 मिनट के कैफीन के असर से अपका पल्‍स रेट प्रभावित होता है और आपका रक्‍तचाप बढ़ने लगता है। इसका असर ये होता है कि लीवर आपके रक्‍त प्रवाह में शक्‍कर की मात्रा और ज्‍यादा बढ़ा देता है। जिसके कारण आपका दिमाग थकने लगता है और आप आलस महसूस करने लगते हैं।  

शुगर क्रैश की ओर धकेलता है – 

45 मिनट में शरीर में डोपामाइन उत्पादन आपके दिमाग के मध्‍य में प्रभाव डालने लगता है और उसी तरह काम करता है जैसे हेरोइन ड्रग लेने वाले के दिमाग पर प्रभाव पड़ता है। इसके बाद एक घंटे में आपके शरीर में कैफीन की वजह से शुगर क्रैश की स्‍थिति बन जाती है। 

फलों के रस में इतनी ही शक्‍कर होने के बाद भी नहीं होता हानिकारक असर – 

नाईक ने माना है कि ज्‍यादातर फलों के रस में भी इतनी ही मात्रा में शक्‍कर होती है पर वो कोकाकोला की तरह खतरनाक असर नहीं डालती है। इसका कारण स्‍पष्‍ट करते हुए उन्‍होंने बताया है कि प्राकृतिक चीजों में अपने आप ही रक्षा करने वाले तत्‍व मौजूद होते हें जो मनुष्‍य को नुकसान नहीं पहुंचाते। जैसे फलों में फाइबर की मौजूदगी शक्‍कर के लिए एंटी डोज की तरह काम करती है और आप उसके हानिकारक प्रभाव से बचे रहते हैं।

कोल्ड-ड्रिंक का प्रयोग बंद करने में ही हैं अब समझदारी। 

 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x