कोरोना वायरस: दिल्ली-एनसीआर समेत यूपी, बिहार के 15 जिलों में लॉकडाउन का ऐलान

पूरी दुनिया में इस समय कोरोना वायरस का कहर है। चीन, इटली, ईरान में तो कोरोना वायरस ने प्रचंड स्तर पर तबाही मचाई है। अब तक कोरोना वायरस के कारण 13 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में भी कोरोना अपने पैर पसार रहा है अबतक  भारत में 350 से ज्यादा कोरोना से संक्रमित लोगों की पुष्टि हो चुकी है। भारत में दिन प्रति दिन संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही हैं। अब तब मौतें 7 ही हैं। ये अंकड़ा बढ़े न इस लिए भारत सरकार कोरोना से निपटने के लिए हर प्रयास कर रही है। कोरोना के कहर को कम करने के लिए जनता कर्फ्यू के बाद भारत के कई राज्यों को लॉकडाउन कर दिया गया है। पंजाब, राजस्थान, उत्तराखंड के बाद अब देश की राजधानी दिल्ली और यूपी के 15 जिलों को लॉकडाउन किया गया है।

इन जिलों में आगरा, लखनऊ, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, मुरादाबाद, वाराणसी, लखीमपुर खीरी, बरेली, आजमगढ़, कानपुर, मेरठ, प्रयागराज, अलीगढ़, गोरखपुर और सहारनपुर का नाम शामिल है. 31 मार्च तक ये जिलें पूरी तरह से लॉकडाउन रहेंगे. इस इस दौरान जरूरी सेवाएं राज्य में जारी रहेंगी.

कोरोना के रोकथाम के लिए केंद्र सहित सभी राज्य सरकारें संभव कदम उठा रही हैं. पीएम मोदी ने जहां देश में ‘जनता कर्फ्यू’ लगाने का आह्वान किया, तो वहीं राज्य सरकारें लॉकडाउन को ओर बढ़ रही है.

पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रविवार को पूरे राज्य में 31 मार्च तक लॉकडाउन करने का फैसला किया है, तो वहीं एक के बाद एक महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली सहित तमाम राज्यों में लॉकडाउन का ऐलान किया गया। 

यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने गौतमबुद्व नगर को लॉकडाउन कर दिया है। अब इसके बाद यहां सारी गतिविधियां थम जाएंगी। यह लॉकडाउन 25 मार्च तक रहेगा। इसके बाद पूरे जिले में किसी प्रकार की गतिविधि नहीं होगी। इस आदेश के बाद नोएडा, ग्रेटर नोएडा में सभी औद्योगिक इकाइयां बंद रहेंगी। वहीं, सभी मार्केट मॉल दुकान बंद रहेंगे।

पटना सहित देश के 75 जिले लॉक डाउन, बिहार में एक की मौत, तीन केस पॉजिटिव। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करने दिल्ली को लॉकडाउन किए जाने की जानकारी दी है। केजरीवाल ने कहा हमने दिल्ली में लॉकडाउन लगाने का फैसला कल सुबह 6 बजे (23 मार्च) से 31 मार्च 2020 की रात 12 बजे तक किया है। दिल्ली में तालाबंदी के दौरान निजी बसों, ऑटो, ई-रिक्शा सहित किसी भी सार्वजनिक परिवहन सेवाओं की अनुमति नहीं दी जाएगी। डीटीसी बस बेड़े का 25 फीसदी हिस्सा दिल्ली की सड़कों पर लोगों को आवश्यक सेवाओं में शामिल करने के लिए जारी रहेगा। दिल्ली में सभी घरेलू उड़ानों पर कल से 31 मार्च तक प्रतिबंध।

इससे पहले भारती रेलवे ने भी कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 31 मार्च तक सभी मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया है.दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कोरोना के कहर को कम करने के लिए इस कदम को उठाया है।

देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या 364 हो गई है. देश में अब तक 7 लोगों की मौत हुई है. सबसे बुरा हाल महाराष्ट्र का है, जहां अभी तक 74 मामले सामने आए हैं. कोरोना से देश के 22 राज्य प्रभावित हैं।कोरोना के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में हैं, जहां 74 लोग कोरोना से पीड़ित हैं. जबकि दो लोगों की मौत हुई है. वहीं बिहार में भी दो मामले सामने आए हैं जिनमें से दोनों लोगों की मौत हो गई है. वहीं उत्तराखंड में 4, पश्चिम बंगाल में 5, तमिलनाडु में 7, चंडीगढ़ में 6, जम्मू-कश्मीर में 4, ओडिशा में 2, आंध्र प्रदेश में 5, छत्तीसगढ़ में 1, हिमाचल प्रदेश में 2, मध्य प्रदेश में 4, पुडुचेरी में 1.

क्या होता है लॉक डाउन-
‘लॉकडाउन’ (Lock Down) का सीधा सा मतलब होता है तालाबंदी। जिस तरह किसी संस्थान या फैक्ट्री को बंद किया जाता है तो वहां तालाबंदी हो जाती है। उसी तरह शहर लॉक डाउन का अर्थ है कि आप अनावश्यक कार्य के लिए सड़कों पर ना निकलें। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का अभी तक कोई पुख्ता इलाज सामने नहीं आया है। इससे बचने का एक ही रास्ता है कि आप खुद को संक्रमि‍त व्यक्ति से बचाव करें। देश में जिस तरह से लगातार संक्रमित व्यक्ति‍यों की तादाद बढ़ रही है उसे देखते हुए आप अन्य लोगों के संपर्क में नहीं आएं।

दरअसल, लॉकडाउन एक एमरजेंसी व्यवस्था है जो किसी आपदा के वक्त शहर में सरकारी तौर पर लागू होती है। लॉक डाउन की स्थ‍िति में उस क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है। उन्हें सिर्फ दवा या अनाज जैसी जरूरी चीजों के लिए बाहर आने की इजाजत मिलती है। लेनदेन के लिए आप बैंक से पैसा निकालने के लिए भी जा सकते हैं।

क्यों लागू होता है लॉक डाउन?
किसी सोसायटी या शहर में रहने वाले वहां के स्थानीय लोगों को स्वास्थ्य या अन्य जोख‍िम से बचाव के लिए इसे लागू किया जाता है. इन दिनों कोरोना संक्रमण के मद्देनजर कई देशों में इसे अपनाया जा रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *