स्कीन कैप्चर मुहिम : कोरोना वायरस मुक्त विश्व पर आपके विचार लिखें

Campaign: Corona Virus Free World

देश में कोरोना पॉजिटिव 1.12 लाख के पार; 24 घंटे में 5609 नए केस, 132 लोगों की मौत –

दुनियाभर में कोविड19 पॉजिटिव मामले 5,085,504 हो गए हैं. अब तक 329,731 लोगों की जान जा चुकी है. 

दुनियाभर में कोरोना की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है. यह महामारी तकरीबन 213 देशों को अपनी चपेट में ले चुकी है. दुनियाभर में कोविड19 पॉजिटिव मामले 5,085,504 हो गए हैं. अब तक 329,731 लोगों की जान जा चुकी है. वहीं, अब तक 2,021,666 लोग रिकवर भी हो चुके हैं. कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका है. अमेरिका में अब तक कोरोना के 1,591,991 केस सामने आ चुके हैं वहीं, कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 94,994 हो चुका है

कोरोना महामारी से पूरा विश्व परेशान है। हमने आप सब के सहयोग से एक ऐसी मुहिम शुरू की है। कि इस महामारी के बारे में आपके अपने क्या विचार हैं? वह सब विचार संरक्षित हो। 

आपके कीमती विचार

विषय – ” कोरोना वायरस महामारी का अंत कैसे व कब?”

मुहिम : स्क्रीन कैप्चर मुहिम – Campaign: Corona Virus Free World – आपके विचार पूरा नाम सहित कम शब्दों में यहीं कमेन्टस बॉक्स में या पर्सनल पर सच की दस्तक की मेल पर,, हम आपके विचारों को सम्मान सहित संरक्षित करेगें और सच की दस्तक की तरफ़ से कोरोना योद्धा सम्मान सर्टिफिकेट आपको सम्मान सहित प्रदान किया जायेगा। मुहिम का हिस्सा बनें.. दुनिया को अपने विचार पढ़ायें।

ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना, न्यूज ऐडीटर सच की दस्तक राष्ट्रीय मासिक पत्रिका, वाराणसी – प्रत्येक मानव जन्मजात अच्छा होता है। उसे यूनाइट रूल की पॉलिसी अच्छा बनाती है और डिवाइड रूल की पॉलिसी बुरा बनाती है। प्रत्येक मानव पारिवारिक एवं सामाजिक स्वाधीन प्राणी है। उसे अधिक समय तक आधीन नहीं रखा जा सकता। मानव से कोई भी वायरस बचा नहीं जिसे वह हज़म न कर पाया हो। हम मानव ही जीतेगें और कोरोनावायरस हारेगा।

रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जस, डबलिन की डॉक्टर सुसेन मुरे के अनुसार – बीमारी का खौफ़ ही महामारी है।बीमारी का खौफ़ खत्म होने तक कोई बीमारी महामारी होती है।

हार्वर्ड यूनीवर्सिटी के ऐलन ब्रँट के अनुसार – महामारी का अंत सामाजिक प्रक्रिया के जरिए ही होगा।

जॉन हॉकिंग्स इंस्टीट्यूट के डॉक्टर जे बी ग्रीन के अनुसार – लोग महामारी के डर के माहौल से खुद ही बाहर निकलने को तैयार हो जायेगें।

यूनीवर्सिटी ऑफ एक्सटेर की डॉक्टर डोरा बारघा के अनुसार – महामारी के नियमों से ऊबे लोग खुद ही महामारी के अंत की कहानी लिख देगें।

येल यूनीवर्सिटी के डॉ. नाओमी रोजर्स के अनुसार मानसिक रूप से ऊब चुके परेशान लोग स्वंय ही कहने लगेगें कि अब बहुत हो चुका, हमें अपनी सामान्य जिंदगी में लौटना है और इस महामारी के अंत की अनौपचारिक घोषणा आम लोग ही करेगें।

आर. पी,सक्सेना एडवोकेट – जब भारत के साथ विश्व के सभी देशों के सभी नागरिक अपने जनजीवन व जनजीविकाहित में अपने-अपने देश के शासक का व उसे दिये जाने वाले अपने सभी प्रकार के मतदानों का एक साथ मिलकर बहुत बड़े पैमाने पर बहिष्कार कर अपने-अपने देश के मान. राष्ट्रीय सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश से अपने न्याय के मौलिक अधिकार के तहत स्वंय को अपने-अपने देश के नागरिक सिद्ध होने की पहचान का अपने-अपने देश की नागरिकता का प्रमाणपत्र व पहचानपत्र हासिल करने की मांग कर अपनी इस मांग को पूरा करवायेगें तभी विश्व के सभी देशों के शासकों की डिवाइड एंड रूल पॉलिसी की वैश्विक कोरोना महामारी का अंत हो जायेगा। जब तक न्यायालयों में विचाराधीन जनजीविका एवं जनजीवन निर्विवादित न्याययुक्त व निर्बाधित अपराध मुक्त नहीं होगा तब तक नागरिकों की अर्थव्यवस्था व जनजीवन सशक्त एवं सुरक्षित नहीं होगा और विश्वशांति और मानवता स्थापित क्रियान्वित व संचालित नहीं होगी।

विचार: मालिक जी 
कोरोना, जो की निरंतर फैलता जा रहा है और लोगों को अपनी चपेट में लेता जा रहा है, एक वैश्विक संकट बन चूका है। दुखद स्थिति ये है कि अभी तक इसका सही उपचार नहीं मिल पाया है।पर अगर हम कोरोना से काल-कवलित हो चुके लोगों की Medical History को पढ़ें, तो पता चलता है कि वे पहले से भी अन्य कई गम्भीर बिमारियों से ग्रसित थे। केवल कोरोना के कारण ही मृत्यु हुई हो,ऐसा एक भी उदाहरण नहीं।अतः मुझे लगता है कि हम सबों को कोरोना से डरना नही  है, वरन् सावधान रहना है। डरने में और सावधान रहने में अंतर है। हम सभी सामाजिक दुरी का एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन करें, तो कोरोना हमें छु भी नहीं पाएगा। साथ ही हम सभी अपने शरीर की Immunity system को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दें।एक और महत्वपूर्ण बात हमें कोरोना ने सिखाई है। भोगवादी जीवनशैली को से हम जितना दूर रहें, मानव समाज के लिए उतना ही अच्छा है। यह महामारी भोगवादी जीवन शैली की ही उपज है। दूसरी जो बात हमें कोरोना ने सिखाई है, वो ये कि हम चाहे कितना भी उन्नत होने का दावा कर लें, प्रकृति के आगे हम सभी बेबस हैं औए प्रकृति की संरचना से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए, इसके घातक परिणाम होते हैं। साथ ही इसने यह भी बता दिया की समाज में कितनी विपन्नता व्याप्त है अभी भी एवं “तंत्र” कितना दूर है “लोक” से स्वाधीनता के सात दशक बाद भी।🙏🙏🙏

विचार : शाहनवाज कसगर 
इस भारत देशमे कोई भी बीमारी आती है जैसे कि यह कोरोना वायरस इससे लड़ने के लिए हम सब हिंदू मुस्लिम एक रहे और किसी तरह का कोई भेदभाव ना रखते हुए उचित दूरी बनाते हुए अपने अपने कार्य को अंजाम दे और हमेशा हंसते रहना चाहिए हंसने से आप की बीमारी दूर रहती है तथा देश के अंदर जितने भी गरीब मजदूर परेशान है उनकी मदद करें उनकी मदद ही देश की सेवा है क्योंकि गरीब व्यक्ति ही परेशान है इस वायरस बीमारी में अमीर अपने घर में बैठा हुआ है गरीब बाहर निकल कर सामान खरीदता है रोजगार के लिए खाने पीने के लिए बाहर घूम रहा है इसलिए देश के अंदर भेदभाव ना रखते हुए हम एक दूसरे को सपोर्ट करते रहे ऊपर वाले ने चाहा तो कोरोना जैसी वायरस बीमारी भारत में जल्दी खत्म हो जाएगी और देश बड़ा है बीमारी भी बड़ी है इसलिए उचित दूरी बनाते हुए साफ-सफाई रखते हुए घर पर रहे बाहर कम निकले जरूरी कार्य हो तभी बाहर निकले साफ सफाई इसलिए भी जरूरी है क्योंकि बीमारी गंदगी से ज्यादा फैलती है गरीबों का खाने-पीने का ध्यान रखते हुए उचित दूरी ही बनाकर रखने में करोना वायरस को हराया जा सकता है  आपका सेवक शाहनवाज कसगर, हसनपुर, जनपद अमरोहा, उत्तर प्रदेश।।

क्रमशः….. नीचे आप सभी के विचार नाम सहित दर्ज करते जायेगें और यह धर्म यज्ञ है आप सभी लोग अपने विचारों की आहूतियों से इसे सम्पन्न अवश्य करें। क्योंकि विचार अमर हैं जिनसे भविष्य की पीढ़ियों को ज्ञान मिलेगा कि हमारे पूर्वजों ने कोरोना महामारी के समय किस तरह के विचार दिये थे। वो डरे तो नहीं थे। वो आपके विचारों को पढ़कर हिम्मत पा सकेगें।

Sunita Jauhari का विचार – 

कोरोनावायरस आजकल खौफ़ बन चुका है । इसकी दहशत की वजह से कहीं मानवता शर्मसार हो रही है ,तो कहीं मानवता की मिसाल कायम हो रही है । लोगों को इससे मुक्त होने का विचार करना चाहिए उसके लिए खुद पर नियंत्रण बहुत जरूरी है। इससे संबंधित जैसे -सैनिटाइजर का प्रयोग करना ,करवाना ,मास्क लगाना  आदि ।सारी सावधानियों का पालन करते हुए एकजुटता की मिसाल कायम करनी चाहिए ।

धन्यवाद 🙏💐

 

 

 

 

Thanks with Much Respect 🙏💐

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
मालिक जी
6 months ago

कोरोना, जो की निरंतर फैलता जा रहा है और लोगों को अपनी चपेट में लेता जा रहा है, एक वैश्विक संकट बन चूका है। दुखद स्थिति ये है कि अभी तक इसका सही उपचार नहीं मिल पाया है।

पर अगर हम कोरोना से काल-कवलित हो चुके लोगों की Medical History को पढ़ें, तो पता चलता है कि वे पहले से भी अन्य कई गम्भीर बिमारियों से ग्रसित थे। केवल कोरोना के कारण ही मृत्यु हुई हो,ऐसा एक भी उदाहरण नहीं।

अतः मुझे लगता है कि हम सबों को कोरोना से डरना नही है, वरन् सावधान रहना है। डरने में और सावधान रहने में अंतर है। हम सभी सामाजिक दुरी का एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन करें, तो कोरोना हमें छु भी नहीं पाएगा। साथ ही हम सभी अपने शरीर की Immunity system को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दें।

एक और महत्वपूर्ण बात हमें कोरोना ने सिखाई है। भोगवादी जीवनशैली को से हम जितना दूर रहें, मानव समाज के लिए उतना ही अच्छा है। यह महामारी भोगवादी जीवन शैली की ही उपज है। दूसरी जो बात हमें कोरोना ने सिखाई है, वो ये कि हम चाहे कितना भी उन्नत होने का दावा कर लें, प्रकृति के आगे हम सभी बेबस हैं औए प्रकृति की संरचना से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए, इसके घातक परिणाम होते हैं। साथ ही इसने यह भी बता दिया की समाज में कितनी विपन्नता व्याप्त है अभी भी एवं “तंत्र” कितना दूर है “लोक” से स्वाधीनता के सात दशक बाद भी।🙏🙏🙏

शाहनवाज कसगर
6 months ago

इस भारत देशमे कोई भी बीमारी आती है जैसे कि यह कोरोना वायरस इससे लड़ने के लिए हम सब हिंदू मुस्लिम एक रहे और किसी तरह का कोई भेदभाव ना रखते हुए उचित दूरी बनाते हुए अपने अपने कार्य को अंजाम दे और हमेशा हंसते रहना चाहिए हंसने से आप की बीमारी दूर रहती है तथा देश के अंदर जितने भी गरीब मजदूर परेशान है उनकी मदद करें उनकी मदद ही देश की सेवा है क्योंकि गरीब व्यक्ति ही परेशान है इस वायरस बीमारी में अमीर अपने घर में बैठा हुआ है गरीब बाहर निकल कर सामान खरीदता है रोजगार के लिए खाने पीने के लिए बाहर घूम रहा है इसलिए देश के अंदर भेदभाव ना रखते हुए हम एक दूसरे को सपोर्ट करते रहे ऊपर वाले ने चाहा तो कोरोना जैसी वायरस बीमारी भारत में जल्दी खत्म हो जाएगी और देश बड़ा है बीमारी भी बड़ी है इसलिए उचित दूरी बनाते हुए साफ-सफाई रखते हुए घर पर रहे बाहर कम निकले जरूरी कार्य हो तभी बाहर निकले साफ सफाई इसलिए भी जरूरी है क्योंकि बीमारी गंदगी से ज्यादा फैलती है गरीबों का खाने-पीने का ध्यान रखते हुए उचित दूरी ही बनाकर रखने में करोना वायरस को हराया जा सकता है आपका सेवक शाहनवाज कसगर, हसनपुर, जनपद अमरोहा, उत्तर प्रदेश।।
मोबाइल नंबर 7895886698

2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x