अमरनाथ यात्रा का षड्यंत्रकारी 12 लाख का इनामी आतंकी असरफ मौलवी हूर गति को प्राप्त

अमरनाथ यात्रा से पहले जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आज एक बड़ी कामायबी हासिल की। दक्षिण कश्मीर में एक ऑपरेशन के दौरान हिजबुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) के कमांडर अशरफ मौलवी (Ashraf Maulvi)को मारा गिराया है। अशरफ मौलवी पुलिस की मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल था। इस आतंकी पर दस लाख का इनाम भी रखा गया था। अशरफ का मारा जाना घाटी में सुरक्षाबलों को आतंकवाद विरोधी अभियान में बड़ी सफलता बताई जा रही है। अशरफ मौलवी के साथ उसके दो और साथियों को भी मार गिराया गया है।

सेना की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के पहलगाम के बटकूट इलाके में जंगल में सर्च ऑपरेशन चला रहे जवानों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें तीन आतंकवादियों को मार गिराया गया है। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कार्रवाई की पुष्टि करते हुए कहा कि पहलगाम में अशरफ मौलवी समेत दो अन्य आतंकी मारे गए हैं। अशरफ मौलवी हिजबुल का कश्मीर में कमांडर था।

बताते चले कि 6 मई 2020 को रियाज नाइकू के मारे जाने के बाद 55 वर्षीय अशरफ मौलवी को कमांडर बनाया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अशरफ खान उर्फ अशरफ मौलवी दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के तेंगपावा कोकरनाग इलाके का रहने वाला था। वह 2013 में हिजबुल में शामिल हुआ और अपने आतंकी वारदातों की वजह से कुछ ही दिनों में सेना की मोस्ट वांटेड आतंकी की सूची में आ गया।

बताया जा रहा है कि पुलिस के अनुसार वह स्थानीय नागरिकों को बहला फुसला कर हिजबुल में भर्ती करता था। बटकूट में उसके मिलने की जानकारी पर पुलिस और सेना की 19RR की एक संयुक्त टीम ने बटकूट जंगल को घेर कर तलाशी अभियान शुरू किया। जैसे ही पुलिस की संयुक्त टीम ने अपनी तलाशी तेज की छिपे हुए इस आतंकवादियों ने गोलीबारी कर दी। जिसके बाद हुई मुठभेड़ में सेना ने तीनों आतंकी मार गिराए। बताते चले कि 30 जून से कश्मीर में वार्षिक अमरनाथ यात्रा शुरू हो रही है।

जम्मू और कश्मीर के अनंतनाग के पहलगाम इलाके के श्रीचंद टॉप (वन क्षेत्र) में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में 3 आतंकी मारे गए हैं। आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन के सबसे पुराने आतंकवादियों में से एक अशरफ मौलवी, दो अन्य आतंकवादियों के साथ मारा गया है। अमरनाथ यात्रा मार्ग पर मुठभेड़ हमारे लिए एक बड़ी सफलता है। IGP ने टाइम्स नाउ से कहा कि अशरफ मौलवी A++ कैटेगरी का आतंकी था। वह पहलगाम में फंसे हिज्बुल के तीन आतंकियों में शामिल था। तीनों हिज्बुल के आतंकवादी मारे गए हैं। सुरक्षा बलों द्वारा खूंखार आतंकवादी रियाज नाइकू के मारे जाने के बाद 55 साल की उम्र में अशरफ ने संगठन की कमान संभाली थी

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x