बहरीन ने 250 भारतीय कैदियों की सजा की माफ, पीएम मोदी ने जताया आभार

बहरीन सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की खाड़ी देश की पहली यात्रा के दौरान सद्भाव प्रदर्शित करते हुए 250 भारतीय कैदियों की सजा रविवार को माफ कर दी।

  • बहरीन ने 250 भारतीय कैदियों की सजा की माफ
  • पीएम मोदी ने शाही माफी के लिए बहरीन नेतृत्व का आभार व्यक्त किया
  • आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार विभिन्न विदेशी जेलों में 8,189 भारतीय बंद हैं

 

मनामा –

बहरीन सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की खाड़ी देश की पहली यात्रा के दौरान सद्भाव प्रदर्शित करते हुए 250 भारतीय कैदियों की सजा रविवार को माफ कर दी।प्रधानमंत्री ने इस शाही माफी के लिए बहरीन नेतृत्व का आभार व्यक्त किया। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार विभिन्न विदेशी जेलों में 8,189 भारतीय बंद हैं जिनमें से सऊदी अरब में सर्वाधिक 1,811 और इसके बाद संयुक्त अरब अमीरात में 1,392 भारतीय हैं।यह स्पष्ट नहीं है कि बहरीन की जेलों में कितने भारतीय हैं।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, ‘सदाशयता एवं मानवीय सद्भाव के तहत बहरीन सरकार ने बहरीन में सजा काट रहे 250 भारतीयों को माफी दे दी है।’

मनामा स्थित इस 200 साल पुराने मंदिर का 42 लाख डॉलर की लागत से 45 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में तीन मंजिला भवन के साथ नवीनीकरण किया जा रहा है. मोदी शनिवार को यहां पहुंचे थे. वह बहरीन की यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं. इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)  ने बहरीन के वली अहद सलमान बिन हमाद बिन इसा अल खलीफा से शनिवार को मुलाकात की और भारत एवं बहरीन के बीच मित्रता मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की।दोनों देशों के नेताओं के बीच बातचीत में व्यापारिक संबंधों और सांस्कृतिक आदान-आदान पर विशेष ध्यान रहा।

इसने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बहरीन के शाह और पूरे शाही परिवार को उनके इस फैसले के लिए धन्यवाद दिया।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बहरीन की राजधानी मनामा में भगवान श्री कृष्ण के 200 साल पुराने मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए 42 लाख डॉलर की परियोजना का भी रविवार को शुभारम्भ किया. मनामा में श्रीनाथजी (श्री कृष्ण) मंदिर का पुनर्निर्माण कार्य इस साल आरंभ किया जाएगा।

 

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x