समरस संस्थान साहित्य सृजन भारत की आयोजित हुई वर्चुअल आम सभा

सच की दस्तक न्यूज़ डेस्क जयपुर राजस्थान निशा अग्रवाल

समरस संस्थान साहित्य सृजन भारत द्वारा  22 जनवरी 2023 की शाम इस सत्र की प्रथम वर्चुअल आम सभा संरक्षक मंडल सदस्य श्री रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की अध्यक्षता में आयोजित हुई। देश की विभिन्न इकाइयों के समस्त पदाधिकारियों एवं कार्यकारिणी सदस्यों ने भाग लिया।
सभा का प्रारंभ डॉ उमा सिंह की मधुर आवाज के द्वारा मां सरस्वती की वंदना के साथ किया गया। सभा का संचालन राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमती कामिनी व्यास ‘रावल’ द्वारा किया गया तथा परिचर्चा के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला।
आज की परिचर्चा में निम्न एजेंडा प्रस्तुत किए गए।


। पूर्व की तरह मासिक गोष्ठियों का आयोजन।
2. वर्ष भर के कार्यक्रमों का कैलेंडर बना कर सभी राज्यों की इकाइयों को भेजना।
3 बालकों के विकास और प्रोत्साहन हेतु कार्यक्रम बनाकर प्रोत्साहन करना।
4. 26 जनवरी को राष्ट्रीय एवं इकाई स्तर पर गोष्ठी आयोजित करना।
5. सामाजिक, संस्कृतिक।और राष्ट्रीय विकास में प्रभावी योगदान हेतु न्यूज चैनल की स्थापना।
संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश व्यास ‘स्नेहिल’ ने कहा कि महिलाओं के उत्थान, युवा पीढ़ी एवं बच्चों में हिंदी भाषा और साहित्य के प्रति अलख जगाया जाए। परिचर्चा में वर्ष भर में होने वाली साहित्यिक गतिविधियों एवं कार्यक्रमों की रूपरेखा पर विचार विमर्श किए। कार्यशाला प्रभारी डॉ भावना सांवलिया ने बालकों के सृजनात्मक विकास हेतु लेखन एवं चित्र काव्य प्रतियोगिताओं का सुझाव दिया।

कार्यक्रम में डॉ रघुनाथ मिश्रा जी सहज लक्ष्मण रामानुज लड़ी वाला राव शिवराज पाल सिंह मधु सिंह जी महक डॉ भावना कपिल जी कामिनी जी रजनी शर्मा जी भावना जी बृज सुंदर जी डॉ अनिल शर्मा रेनू जी कोटा एवं कपिल खंडेलवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किए। राष्ट्रीय डॉ निशा अग्रवाल को राष्ट्रीय चैनल शुरू करने के लिए उसका प्रभारी नियुक्त किया गया सभी ने उनको बधाइयां दी राव शिवराज पाल सिंह ने सुझाव दिया की हिंदी और हिंदी भाषा और हिंदी साहित्य के प्रति रुचि जगाने के लिए आवश्यक है कि हम बच्चों को माध्यमिक शिक्षा स्तर से पहले ही अनेक कार्यक्रम आयोजित कर उनमें हिंदी के प्रति विशेष रूचि जागृत करें इसके लिए उन्होंने अंग्रेजी कहावत कैच them young का उदाहरण दिया।


समरस द्वारा बसंत पंचमी के।शुभ अवसर पर समरस बाल काव्यशाला आरम्भ करने की घोषणा भी की गई।
जो भी बच्चे इस काव्यशाला मे भाग।लेना चाहते है, संस्थान से जुड़ सकते है।
संस्था मीडिया प्रभारी शशि जैन ने बताया कि साहित्य जगत में महिलाओं का रुझान निरंतर बढ़ रहा है। ये हमारे देश के लिए बड़े ही गर्व की बात है। सभा का समापन राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमती कामिनी व्यास द्वारा आभार के साथ संपन्न हुआ।

Sach ki Dastak

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Dr Nisha Agrawal
11 days ago

Thanks a lot Sir

1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x