धर्म के नाम पर सत्ता में अाने वाली भाजपा धर्म को ही भूल गई है : संत समागम 23/10/2018 इंदौर


इंदौर खबर – 


सीएम शिवराज सिंह ने कम्प्यूटर बाबा द्वारा आयोजित संत समागम कार्यक्रम से ठीक पहले संतों का एक आयोजन करवाकर आशीर्वाद लिया और बयान जारी करवाए कि कम्प्यूटर बाबा का कोई आधार नहीं है परंतु दूसरे दिन आज संत समागन में खासी भीड़ नजर आई। संतों ने भाजपा पर धर्म के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाया।
मंगलवार को कंप्यूटर बाबा द्वारा इंदौर में आयोजित संत समागम कार्यक्रम के दौरान संतों ने व्यापमं घोटाले को मौत का घोटाला बताया। उन्होंने नर्मदा मामले में शिवराज सरकार पर जमकर निशाना साधा।

नर्मदा का जिक्र करते हुए कंप्यूटर बाबा रोने लगे। मप्र की भाजपा सरकार से नाराज कंप्यूटर बाबा ने कुछ दिनों पहले ही राज्यमंत्री के दर्जे से इस्तीफा दिया था और अब वह मुख्यमंत्री को खुली चुनौती दे रहे हैं।

धर्म का नाम पर सत्ता में अाने वाली भाजपा अब धर्म को ही भूल गई है। मंगलवार को अभय खेल प्रशाल में आयोजित संतों के समागम कार्यक्रम के दौरान संताें ने कहा कि धर्म का नाम लेकर सत्ता में अाने वाली भाजपा अब धर्म को ही भूल गई है। इसके साथ ही नर्मदा और व्यापमं घोटाला मामले में भी सरकार पर संतों ने आरोप लगाए। संतों ने कहा कि मप्र में पिछले 15 सालों से धर्म व धर्म प्रेमी जनता परेशान है।

मां नर्मदा को साफ करने और नदी के दोनों किनारों पर पौधारोपण करने के नाम पर जमकर घपला किया गया है।


अन्य स्थानों पर भी होगा समागम – 


मंगलवार को इंदौर में प्रारंभ हुआ कंप्यूटर बाबा का यह अभियान प्रदेश के अन्य शहरों में भी किया जाना है। ग्वालियर में 30 अक्टूबर, खंडवा में 4 नवंबर, रीवा में 11 नवंबर और 23 नवंबर को जबलपुर में संतों से मुलाकात की जाएगी।


पद से दिया था इस्तीफा – 


अक्टूबर माह की शुरुआत में ही मप्र सरकार द्वारा राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्‍त संत नामदेव शास्त्री उर्फ कंप्यूटर बाबा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया था। कंप्यूटर बाबा ने राज्‍य सरकार पर धर्म और संत समाज की उपेक्षा करने के आरोप लगाए थे। सरकार द्वारा गो मंत्रालय बनाए जाने की घोषणा पर सवाल उठाने के साथ ही उन्होंने सरकार से अलग नर्मदा मंत्रालय बनाने की मांग की थी।


जाहिर कर चुके हैं चुनाव लड़ने की इच्छा


कंप्यूटर बाबा चुनाव लड़ने की इच्छा कई बार जाहिर कर चुके है। बाबा ने हाल ही में बीजेपी के टिकट से विधानसभा चुनाव लड़ने की इच्छा भी जाहिर की थी लेकिन पार्टी की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। 2014 में भी बाबा ने आम आदमी पार्टी और बीजेपी से लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x