पीडीडीयू नगर की बेटी को बीएचयू के दीक्षांत समारोह में मिला 6 स्वर्ण पदक

सच की दस्तक न्यूज डेस्क चन्दौली
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में शनिवार देर रात्रि तक चले 102 वें दीक्षांत समारोह में पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर की बेटी मयूरी कुमारी ने बीएससी व एमएससी (मैथ) में प्रथम स्थान आने पर 6 गोल्ड मेडल व 2 नगद पुरस्कार प्राप्त कर नगर सहित अपने परिवार का मान बढाया है

ज्ञातव्य हो कि मयूरी कुमारी का जन्म अपने मामा पीडीडीयू नगर के विकासनगर निवासी राजीव कुमार के घर पैदा हुई। प्रारंभिक शिक्षा के साथ ही यहीं रहकर स्नातक व स्नातकोत्तर की परीक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय से प्राप्त की। बीएचयू में आयोजित 102 वें दीक्षांत समारोह में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं में शामिल मयूरी ने बीएससी में प्रथम स्थान आने पर कुल चार गोल्ड मेडल जिसमें बीएचयू गोल्ड मेडल,मनोरमा मेडल, डायमंड जुबली गोल्ड मेडल,शांति उपाध्याय स्मृति गोल्ड मेडल के साथ 1000 रुपये का गोल्डन जुबिली मेरी कैश अवार्ड व 500 रुपये का श्रध्दा कुमारी श्रीवास्तव मेमोरियल कैश अवार्ड प्राप्त किया।

एमएससी में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर प्रोफेसर एन बालाकृष्णन गोल्ड मेडल व बीएचयू मेडल से समानित किया गया। मेडल पाने से मयूरी के साथ साथ परिजनों व उसके मित्रों में हर्ष व्याप्त हो गया। शिक्षकों ने भी ढेर सारा आशीर्वाद दिया। बताते चलें कि मूल रूप से बिहार के औरंगाबाद जिले के ओबरा की निवासी सुरेंद्र प्रसाद गुप्ता की होनहार पुत्री मयूरी ने काफी विषम परिस्थितियों में अपने मामा के घर रहकर शिक्षा ग्रहण की है। उसने आज तक कभी कोई ट्यूशन या कोचिंग नहीं किया और अध्धयन के प्रति सतत लगनशील बनी रही।छात्र छात्राओं के लिए प्रेरणास्रोत मयूरी ने इस उपलब्धि का श्रेय अपने गुरुजनों, अपनी माँ सुमन कुमारी,मामा व अपने बड़े भाई अमोल को देते हुये कहा कि उसका लक्ष्य यूपीएससी एग्जाम ब्रेक कर आईएएस बनना है।

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x