अविरल राष्ट्रीय कवि सम्मेलन का आयोजन दिल्ली में संपन्न

न्यूज डेस्क सच की दस्तक राजस्थान

 

सातवां राष्ट्रीय अविरल कवि सम्मेलन दिल्ली में एक शाम साथियों के नाम का आयोजन 30 नवंबर को जनकपुरी दिल्ली में सफलता पूर्वक संपन्न हुआ।आईपीसी न्यूज़ चैनल व इंटरनेशनल प्रेस कम्युनिटी के संयुक्त तत्वावधान द्वारा ये सातवां राष्ट्रीय अविरल कवि सम्मेलन दिल्ली में बड़े धूम-धाम से आयोजक डॉ परमिंदर पाण्डेय जी के संयोजन और कैप्टेन ऍम. पी. एस. पुज्जी के सहयोग से शानदार तरीके से देश के श्रेष्ठ शायरों, कवियों और साहित्य प्रेमियों की पावन उपस्थिति में संपन्न हुआ। डॉ ज्योति उपाध्याय जी ने मां सरस्वती की वंदना और अतिथियों के द्वारा दीप प्रज्वलन तथा मां सरस्वती के चरणों में पुष्प समर्पित करके कार्यक्रम का शानदार आगाज हुआ। डॉ परमिंदर पांडेय जी ने सभी आमंत्रित सम्मानित कवियों को राम नाम की पट्टिका,तुलसीपत्र और स्मृति चिन्ह के रूप में मोमेंटो देकर सम्मानित किया। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में अनेक राज्यों से लब्ध प्रतिष्ठित कवियों और कवियात्रियों ने अपनी लाजवाब प्रस्तुति से कार्यक्रम में चार चांद लगा दिया। इस कवि सम्मेलन में कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ गीतकार डॉ जय सिंह आर्या, राष्ट्रीय कवि है ने की।मुख्य अतिथि की भूमिका में देश के लब्ध प्रतिष्ठित हास्य व्यंग्य कवि बाबा कानपुरी जी ने निभाई।अन्य आमंत्रित कवियों के रूप में डॉ ज्योति उपाध्याय जी, बबिता पाण्डेय जी, पूनम माहेश्वरी जी, डॉ ममता श्रीवास्तव सरूनाथ जी,राजेंद्र चंचल जी, रमेश गंगोली अनंत जी, तरुणा पुंडीर जी,कामता प्रसाद जी, निर्भय निर्वाण झा जी,विकास मिश्र सागर जी,राधा गुप्ता जी शामिल हुई।कार्यक्रम का शानदार संचालन रमेश गंगेले अनंत जी ने किया। अन्य मौजूद रहने वाले अतिथेयो में के. के. शर्मा, राजनाथ पाण्डेय, डॉ. कुलदीप तिवारी, डॉ. कपिल सिंह ठाकुर, डॉ. के. पी. सिन्हा, डॉ. प्रभात सिन्हा, डॉ. अभिषेख सिन्हा, डॉ. एल. के. एस. चौहान, डॉ. बापू जयसिंह पाटिल, डॉ. विमल नारंग, श्री बी. के. मिश्र, एडवोकेट संजय त्रिपाठी, एडवोकेट सुशील तिवारी, इत्यादि शामिल हुए। आयोजक डॉ. परमिंदर पाण्डेय, डॉ. कैप्टेन ऍम. पी. एस. पुज्जी, श्री एम. पी. यादव, श्री कृष्णकांत पाठक, श्री राकेश उर्फ़ राका जी का योगदान अतुलनीय रहा।
राजेंद्र चंचल (हास्य कवि), ने लाजवाब हास्य की प्रस्तुति दी।
विकास मिश्र “सागर” आशु कवि ने शानदार कविता सुनाई।विकास मिश्र सागर का मुक्तक *मेरे नाम से मुझे न पहचाना जाए, मेरे काम से मुझे जाना जाए, काम करू कुछ ऐसा कि नाजीर बने,खुदा के बाद मेरे नाम को भी जाना जाए* को खूब सराहा गया।
निर्भय झा निर्वाण ने लाजवाब गीत सुनाया।बबिता पाण्डेय ने अद्भुत छंद सुनाया जो बहुत ही पसंद किया गया। डॉ ममता श्रीवास्तव जी ने भावपूर्ण गीत सुनाया।तरुणा पुंडीर जी ने अद्भुत काव्य पाठ किया।पूनम महेश्वरी जी ने सुंदर श्रृंगार के मुक्तक सुनाया।डॉ. ज्योति उपाध्याय जी ने अपने लाजवाब माहिए से सभी को प्रभावित किया,कामता प्रसाद जी ने सुंदर गीत सुनाया। बाबा कानपुरी जी ने हास्य के गीत और दोहे सुनाए जिसे लोगों ने बहुत पसंद किया। संचालक रमेश गंगेले जी ने अपनी लाजवाब कविता सुनाई। अंत एम अध्यक्ष डॉ जय सिंह आर्या जी ने लाजवाब दोहे और अद्भुत गीत सुनाया तथा अपना अध्यक्षीय उद्बोधन भी दिया।।कार्यक्रम के आयोजक : डॉ. परमिंदर पांडेय, कैप्ट. डॉ. एम. पी. एस. पूज्जी व आईपीसी परिवार दिल्ली ने सभी सम्मानित साहित्यकारों दर्शकों के प्रति अपना आभार व्यक्त किया।।आयोजक डॉ परमिंदर पांडेय जी ने इस सुंदर कार्यक्रम में सहयोग के लिए अपनी संस्था की मुंबई महिला लिट्रेचर पैनल की अध्यक्षा व प्रसिद्ध कवयित्री डॉ. वर्षा सिंह जी व छठवें राष्ट्रीय अविरल कवि सम्मेलन के संचालक व प्रसिद्ध कवि अंजनी द्विवेदी जी व संपूर्ण आयोजन कर्ता भाई डॉ. कैप्ट पूज्जी साहब को धन्यवाद दिया जिनके सहयोग से ये कार्यक्रम का आयोजन सफलता पूर्वक संपन्न हुआ।

Sach ki Dastak

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Dr Nisha Agrawal
2 months ago

अविरल राष्ट्रीय कवि सम्मेलन में भाग लेने वाले समस्त सम्मानित कवियों को सच की दस्तक टीम की तरफ से हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।
डॉ निशा अग्रवाल
जयपुर ,राजस्थान

1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x