पश्चिम बंगाल: बीरभूम में आदिवासी लड़की से गैंग रेप, आरोपियों की तलाश में पुलिस

पश्चिम बंगाल (West Bengal ) में बीरभूम जिले के एक गांव में मेले से लौटकर आ रही एक आदिवासी लड़की के साथ कम से कम पांच लोगों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया. पुलिस ने बताया कि जांच शुरू कर दी गई है.

बीरभूम (पश्चिम बंगाल). पश्चिम बंगाल (West Bengal ) में बीरभूम जिले के एक गांव में मेले से लौटकर आ रही एक आदिवासी लड़की के साथ कम से कम पांच लोगों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया. घटना की बारे में जानकारी मिलते ही आसपास के इलाकों में हड़कंप मच गया. पिछले एक सप्ताह में पश्चिम बंगाल में गैंग रेप की यह दूसरी घटना है. इससे पहले नादिया जिले में तृणमूल कांग्रेस (TMC) नेता के बेटे और उसके दोस्तों ने 14 साल की लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था, घटना के बाद लड़की की मौत हो गई थी. इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है.

बीरभूम जिले में हुई इस वारदात के बाद पुलिस ने आरोपियों की तलाश में कई जगह पूछताछ की है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि बृहस्पतिवार रात को शांतिनिकेतन थानाक्षेत्र में जब यह किशोरी एवं उसका प्रेमी शांतिनिकेतन के आदित्यपुर में चरक मेले से लौट रहे थे, तब उसके साथ यह वारदात हुई. उन्होंने बताया कि पांच व्यक्तियों ने उसके पुरूष मित्र के साथ मारपीट की एवं वे उस किशोरी को कोपई नदी के तट पर ले गये जहां बारी-बारी से उन सभी ने उसके साथ दुष्कर्म किया. अधिकारी ने बताया कि पुलिस शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया है और जांच की जा रही है. उन्होंने बताया कि किशोरी का बोलापुर उपसंभागीय अस्पताल में इलाज चल रहा है एवं पुलिस ने आरोपियों का रेखाचित्र तैयार करने में उसकी मदद मांगी है.

नादिया मामले ने ममता सरकार की किरकिरी कराई
नादिया जिले के हंसखाली में नाबालिग लड़की से रेप के मामले में पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता के बेटे को अरेस्ट किया था। रेप की घटना के बाद लड़की की मौत हो गई थी। लड़की के साथ एक जन्मदिन की पार्टी में कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार(gang-raped) किया गया। नादिया मामले में पीड़िता की उम्र 14 साल थी। वो नौवीं कक्षा की छात्रा थी।  पीड़िता के परिजनों ने दावा किया कि मुख्य आरोपी तृणमूल कांग्रेस के एक पंचायत सदस्य का बेटा है। कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश पर केंद्रीय जांच ब्यूरो(CBI) मामले की जांच कर रही है। वहीं, भाजपा की एक फैक्ट फाइंडिंग टीम ने शुक्रवार को नादिया का दौरा किया और लड़की के परिवार से मुलाकात की। इस मामले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बयान की आलोचना हुई थी। उन्होंने कहा था- यह देखना होगा कि बलात्कार पीड़िता का प्रेम संबंध था या वह गर्भवती थी।

मामला – मामला गुरुवार रात का बताया जाता है। पुलिस को मिली शिकायत के अनुसार, पीड़ित आदिवासी लड़की अपने एक दोस्त के साथ कोपई नदी के किनारे बैठी थी, तभी तीन लोगों ने उसके साथ गैंग रेप किया। लड़की को बोलपुर के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शुक्रवार सुबह IPS अधिकारी क्राइम सीन पर गए। बीरभूम के पुलिस अधीक्षक(SP) नागेंद्र नाथ त्रिपाठी ने कहा कि पुलिस को  लिखित शिकायत मिली है। जांच जारी है। हालांकि शुक्रवार दोपहर तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी।

नरसंहार के कारण बदनाम हुआ था बीरभूम
बता दें कि बीरभूम के रामपुरहाट के बोगतई गांव में 21 मार्च को हिंसा(West Bengal Political Violence) हुई थी। इसमें 10 लोगों की मौत होना बताई गई। इनमें कुछ बच्चे भी थे। कलकत्ता हाईकोर्ट(Calcutta High Court) ने इस नरसंहार की जांच का जिम्मा भी CBI को सौंप दिया था। बोगतई गांव में हिंसा की शुरुआत तृणमूल कांग्रेस(TMC) के स्थानीय नेता और बरशल ग्राम पंचायत बोकतुई के उप प्रमुख भादु शेख की 21 मार्च को हत्या(TMC leader Bhadu Sheikh was killed on Monday) के बाद हुई थी।

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x