यूपी चुनाव : पुरानी पैंशन बहाली मुद्दा

यूपी चुनाव – जमीनी हकीकत यह है कि सरकारी शिक्षक अपनी पुरानी पैंशन बुढापे की लाठी के लिए एक लंबे वक्त से संघर्षरत् हैं। सोसलमीडिया पर कई ग्रुपों में उनको पढ़ा, सुना जा सकता है।शिक्षकों की नाराजगी इस बात से है कि ट्विटर पर योगी जी द्वारा न्यूजपेपर कटिंग पोस्ट की जिसमें लिखा है कि शिक्षक कर्मचारी सब संतुष्ट हैं और पुरानी पैंशन पर झूठ बोल रहे अखिलेश। कुछ बुजुर्ग शिक्षकों ने आज मुझे कहा कि मैं उनकी संघर्ष गाथा को इस पेज पर जरूर पोस्ट करूं.. कुछ फोटो के साथ।यह भी कहा कि फेसबुक ग्रुप व गूगल पर सर्च कर लो कि हम सच बोल रहे हैं। पूरा सोसलमीडिया पुरानी पैंशन बहाली के मुद्दे से सराबोर है।उनका तर्क यह है कि जो सांसद सिर्फ़ पांच वर्ष के लिए चुने गये, उनकी पैंशन बढ़ती चली जा रही है और हम शिक्षक हैं जिन्हें उतने ही पैसों में घर बनवाना है बेटियों की शादियां करना है दवा के लिए बचाना है।हमारे घर में सिर्फ़ हम कमाने वाले हैं और दोनों बच्चे बेरोजगार क्योंकि हम जनरल हैं। इसलिये मान्यवर हमारी पुरानी पैंशन बहाली कराई दो बस कछु नही चाही, सरकार। आगे यह भी कहा कि जो खबर योगी जी ने ट्वीटर पर पोस्ट की वह बिल्कुल निरर्थक /गलत है बल्कि यह ‘पुरानी पैंशन बहाली मांग’ संघर्ष तो वर्षों से बदस्तूर जारी है और सब सरकारें झूठ बोलकर, मुद्दों की पीड़ा को कानों में रूई लगाकर आरोप – प्रत्यारोप करके टालती रहतीं हैं।

हमने पूछा कि आप सभी शिक्षक योगीजी के शासन से खुश नहीं, वह बोले, अरे! हम किसी भी पार्टी के पक्ष व विपक्ष में नहीं है और योगी जी के सब कार्य ठीक रहे हैं चारो ओर सुरक्षा शांति का माहौल रहा पर कर्मचारी पिस रहा है,शिक्षक भर्तियां लटकी पड़ी हैं, हमें हमारी पुरानी पैंशन नहीं मिल रही। रही बात अखिलेश जी कि तो उन्होंने बेरोजगारी भत्ता देकर नेक काम किया था पर उन्होंने भी बीएड वाले प्रशिक्षक बच्चों को नौकरी न देकर शिक्षामित्र भर्ती कर डाले थे। आज जूनियर स्कूलों में प्रत्येक विषय का अलग से शिक्षक नहीं है और तो और कई जगह सिर्फ़ एक सह शिक्षक पर ही कम्पोजिट मतलब प्राईमरी व जूनियर दोनों स्कूलों की जिम्मेदारी लाद दी गई है। व्यायाम शिक्षक हैं ही नहीं और जितने भी बीपीएड थे अब वो सब बच्चे ओवरएज होकर बैठे हैं,चाहे कोई ट्रेनिंग, बीएड करो, बीपीएड करो खर्चा तो होता ही है। कुछ प्रशिक्षित बेरोजगार, कई छोटे-छोटे काम धंधे करने को विवश।इस दिशा में, न सपा ने कुछ किया न भाजपा ने । ऊपर से योगीजी ने झूठी न्यूज पोस्ट करके हम सभी शिक्षकों के गुस्से में उबाल ला दिया है। हम कहां जायें? इसलिए मेरी यह सत्य व्यथा बेटी अपने पेज पर पोस्ट कर दो, बड़ी मेहरबानी होगी।भले हम कमेन्टस न करें पर तसल्ली होगी।

हमने कहा,”चिंता न कीजिए आप, बिल्कुल पोस्ट कर दूंगी। वैसे भी शिक्षकों का स्थान दुनिया में सर्वोच्च है।

खैर, लोकतंत्र में जनता ही जनार्दन है। बाकि समय परिस्थितियां तय करेगीं कि यूपी का सीएम कौन होगा। जो भी बने स्वागत है पर जनता संतुष्ट होनी चाहिए । हम यही आशा करते हैं कि जो शिक्षक हैं उनका सम्मान और स्वाभिमान सदा बना रहना चाहिए। चुनाव के नजरिये से कहूं तो यह इस यूपीचुनाव-2022 का सबसे बड़ा मुद्दा है, और यह मुद्दा सपा ने सैट कर लिया तो यूपी सरकारी कर्मचारियों /(शिक्षकों जिनका वोट प्रतिशत बहुत ज्यादा है ग़र एक मुश्त वोट सपा को मिल गया तो जीत के आंकड़े कुछ और ही होगें। इसलिए इस मुद्दे पर सत्तारूढ़ बीजेपी को तुरंत संज्ञान लेना चाहिए । 🙏💐

_ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना

न्यूज ऐडीटर सच की दस्तक

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x