मालदह पुल से पशु तस्करी का कारोबार तेजी से रहा फल-फूल

0

सच की दस्तक डिजिटल न्यूज डेस्क वाराणसी चन्दौली 

जनपद चंदौली  के इलिया थाना क्षेत्र के मालदह पुल से पशु तस्करी का कारोबार इन दिनों तेजी से फल-फूल रहा है। मालदह पुल उत्तर प्रदेश बिहार सीमा को जोड़ती है। बॉर्डर पर किसी भी तरह का अवैध वाहन एक दूसरे प्रांत की सीमा में प्रवेश न कर सके इसके लिए बैरियर लगाकर विधिवत पुलिस की ड्यूटी भी लगाई जाती है। बावजूद इन दिनों मवेशियों से भरी वाहन उत्तर प्रदेश की सीमा से बिहार में प्रतिदिन बेरोक टोंक जा रही है। जिससे प्रदेश की योगी सरकार के निर्देशों का खुलेआम धज्जी उड़ती नजर आ रही है।
सूत्र बताते हैं कि सुबह और शाम के वक्त मालदह पुल के रास्ते आधा दर्जन से अधिक पिकअप तथा अन्य वाहन प्रतिदिन मवेशियों को भरकर बिहार की सीमा में से होते हुए बंगाल जाते हैं। पशुओं को बॉर्डर सीमा में प्रवेश दिलाने के लिए पुलिस को बंधी बधाई मोटी रकम मिल जाती है जिससे पशु तस्करी का कारोबार दिन प्रतिदिन तेजी से बढ़ता जा रहा है।
इलिया थाना क्षेत्र के कई रास्ते बिहार प्रांत को जोड़ते हैं। जिसमें सबसे प्रमुख रास्ता मालदह पुल का है जहां से पशुओं को बिहार में प्रवेश दिलाए जाने का काम वर्षों से चर्चा रहा है। तस्कर मवेशियों को आसपास के जिलों से वाहनों द्वारा शहाबगंज तथा चकिया थाना क्षेत्र से गुजरकर मालदह पुल होते हुए बिहार में प्रवेश दिलाने का काम करते हैं। जिसमें कई थाना क्षेत्र के पुलिस की संदिग्ध भूमिका रहती है। ग्रामीण बताते हैं कि मवेशियों से भारी वाहनों का पीछाकर उसे पकड़वाने का कई बार प्रयास किया गया मगर सूचना के बाद भी पुलिस कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई तब तक मवेशियों से भरी वाहन बिहार की सीमा में प्रवेश कर जाती है ऐसी स्थिति में अपनी जान का भी खतरा बना रहता है। इन दिनों पशु तस्करी का कारोबार जिस तरह से जोर पकड़े हुआ है वह पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। देखना है कि नवागत पुलिस अधीक्षक क्षेत्र में पुलिस तस्करी के कारोबार पर रोक लगाने में कितना सक्रियता दिखाते हैं।

Sach ki Dastak

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x